नई दिल्ली : आज के समय में सबसे ज्यादा जरूरी है पैसा जिसके बिना हमारी जिंदगी अधूरी है. जिसके लिए हम और आप दोनों दिन रात मेहनत करते हैं और पैसे कमाते हैं. लेकिन परेशानी यह है कि पैसा कमाने के बाद भी हमेशा घर में पैसों की तंगी रहती है. अगर आपके साथ भी कुछ ऐसी ही समस्या है तो आपको मां लक्ष्‍मी का पूजन करना चहिए. क्योंकि कहा जाता है कि जिन बी घरों में मां लक्ष्‍मी की पूजा की जाती है वहां मां लक्षमी की कृपा बनी रहती है और वहां पर सभी लोग प्रसन्‍न रहते हैं. साथ ही उस घर का माहौल भी बहुत सकारात्‍मक रहता है. लेकिन इसके अलावा भी ऐसे कई उपाय हैं जिन्हें करने से आपके घर में मां लक्षमी की कृपा बरसने लगेगी. आइए आपको बताते हैं वो कार्य जो आप रोज करेंगे तो आपकी समस्या का समाधान निकल आएगा.

घर की महिलाओं को मां लक्ष्‍मी का ही स्‍वरूप माना जाता है, जिन घरों में महिलाओं का सम्‍मान किया जाता है और उन्‍हें प्रसन्‍न रखा जाता है उन घरों पर मां लक्ष्‍मी की कृपा सदैव बनी रहती है. मना जाता है कि अगर महिलाएं रात के वक्‍त घर के मंदिर में रोज एक दीपक जलाएं तो उस घर पर मां लक्ष्‍मी की कृपा सदैव बनी रहती है. उस घर के लोगों को मां लक्ष्‍मी कभी धन की कमी नहीं होने देती.

वहीं यह भी कहा जाता है कि अगर महिलाएं रात को सोने से पहले शयन कक्ष के साथ ही पूरे घर में कपूर का धुंआ करेंगी तो घर की नकरात्‍मक ऊर्जा का नाश हो जाएगा और मां लक्ष्‍मी आप पर प्रसन्‍न होती रहगीं. इसके अलावा शयन कक्ष में कपूर का धुंआ करने से पति और पत्‍नी के बीच लड़ाई झगडे़ खत्‍म होते हैं और संबंधों में मिठास होती है.

बता दें कि जिन घरों में महिलाएं बुजुर्गों और अपने सास-ससुर का सम्‍मान करती हैं और अपने माता-पिता का ध्‍यान रखती हैं उस घर में मां लक्ष्‍मी भी घर की लक्ष्‍मी से प्रसन्‍न रहती हैं. घर ही महिलाओं को रात को सोने से पहले घर के बुजुर्गों का आशीर्वाद लेकर और उनकी हर जरूरत के बारे में पूछकर ही अपने कमरे में सोने जाना चाहिए.

हमेशा घर का सामान बिखरा हुआ छोड़कर रात में न सोएं. क्योंकि ऐसा करने से आपके घर में नकारात्‍मक ऊर्जा का प्रभाव बढ़ता है और सुबह जब आप सोकर उठते हैं तो पूरे घर में नेगेटिविटी फैली रहती है.

घर में मां लक्षमी का वास होना बहुत जरूरी है. लेकिन कई बार ऐसा देखने में आता है कि कुछ लोग देर रात परिवार के साथ घूम-फिरकर आते हैं और मुख्‍य द्वार पर ही जूते-चप्‍पल पड़े छोड़ देते हैं. जिसका बूर प्रभाव पड़ता है. कहा जाता है कि घर के मुख्‍य द्वार से होकर ही मां लक्ष्‍मी आपके घर में प्रवेश करती हैं. ऐसे में अगर मां लक्ष्‍मी के रास्‍ते में जूते-चप्‍पल पड़े आते हैं तो यह शुभ नहीं माना जाता है. इसलिए रात में सोने से पहले जूते-चप्‍पल शू रेक में रखकर मुख्‍य द्वार को एकदम साफ करके सोना चाहिए.

Haridwar Kumbh 2021: 27 फरवरी को माघ पूर्णिमा से लगने जा रहा है कुंभ मेला, जानिए कितने हैं शाही स्नान?

Magh Maas 2021 : माघ महीने में भूलकर भी न खाएं मूली, जानिए कौन से महीने में क्या खाएं