नई दिल्ली: दुनिया के सभी लोगों को परिवार में सुख-शांति की चाहत होती है. ऐसे में अगर परिवार में आपसी मतभेद होते हैं तो व्यक्ति निरंतर कमजोर होता चला जाता है. दरअसल परिवार में पिता को घर का मुखिया माना जाता है और अगर घर में पिता-पुत्र के मन में एक-दूसरे के लिेए विवाद पैदा होता है तो वह स्थिति और ज्यादा भयानक हो जाती है. कहा जाता है कि जिस घर में पिता-पुत्र के विचार मेल नहीं खाते वहां रिश्तों नींव डगमगा जाती है. ऐसे में अगर वास्तु शास्त्र की माने तो पिता और पुत्र के झगड़े का कारण वास्तु दोष होता है.

वास्तुशास्त्र के मुताबिक, अगर आपके घर का उत्तर पूर्वी कोना दोष से ग्रसित हो तो हर रोज विवाद होने की संभावनाएं होती हैं. कहा जाता है कि घर के इस कोने में गंदगी होना भी वास्तुदोष का कारण बन सकता है जिस वजह से पिता-पुत्र के रिश्ते में खटास पैदा होती है. वहीं अगर घर के इस कोने में स्टोर रुम या भंडार गृह है तो पिता-पुत्र के बीच अविश्वास पैदा होने की स्थिति रहती है. वास्तु शास्त्र की माने तो इस कोने में घर का शौचालय भी नहीं होना चाहिए.

इसके अलावा उत्तरी-पूर्व कोने में बिजली के उपकरण भी नहीं रखने चाहिए. माना जाता है कि इस कोने में किसी भी तरह का नकारात्मक ऊर्जा का होना घर की सुख-शांति के लिए खराब हो सकता है. इसके साथ ही इसका प्रभाव घर की आर्थिक स्थिति पर भी पड़ सकता है. ऐसे में अगर घर में रोज विवाद हो रहे हैं तो दोष से मुक्ति के लिए पूजा-पाठ जरूर करवाएं. वहीं पिता-पुत्र को दिन की शुरूआत में ही मीठी वस्तु का सेवन के लिए कहें इसे देना लाभकारी माना जाता है.

कर्नाटकः पत्नी के मरने के बाद बनवाया मंदिर, 12 सालों से रोज कर रहा पूजा, जानिए क्या है वजह

UP: इस बार मथुरा के बरसाना में लट्ठमार होली खेलेंगे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ

Holi 2018: 23 फरवरी से 1 मार्च तक रहेगा होलाष्टक, इस दौरान जरूर करें दान

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर