Surya Grahan 2019 Effects in India: सूर्य ग्रहण का वैज्ञानिक और ज्योतिष दोनों दृष्टि से महत्वपूर्ण स्थान है. सूर्य ग्रहण को वैज्ञानिकों की दृष्टि से आम खगोलीय घटना माना जाता है. वहीं ज्योतिष शास्त्र में सूर्य ग्रहण की घटना को महत्वपूर्ण माना जाता है. इस साल का आखिरी सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर 2019 को पड़ने जा रहा है. 26 दिसंबर को पड़ने वाले यह सूर्य ग्रहण भारत में काफी उथल पुथल मचाएगा. जिसके देश और देश के लोगों पर गंभीर असर पड़ेगा. इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि 26 दिसंबर को पड़ने वाला इस वर्ष का आखिरी सूर्य ग्रहण भारत में कैसा असर डालेगा.

दिंसबर सूर्य ग्रहण 2019 का भारत पर होगा यह असर (Surya Grahan 2019 Effects in India)

इस वर्ष का आखिरी सूर्य ग्रहण 26 दिसंबर 2019 के दिन धनु राशि में लग रहा है. सूर्य ग्रहण के दिन धनु राशि में छह ग्रह विराजमान होंगे. छह ग्रहों का एक राशि में विराजमान होना ज्योतिष शास्त्र के अनुसार एक विशेष घटना है.

26 दिसंबर 2019 के दिन अमावस्या के दिन सूर्य ग्रहण लगने को विशेष माना जा रहा है. इस दिन पांच ग्रह राहु और केत के शिकंजे में होंगे. इतना ही नहीं सूर्य और चंद्रमा भी इस समय राहु केतु के साथ युति में होंगे. जिसकी वजह से शुभ और अशुभ फल प्रबलता के साथ मिलेंगे.

धनु राशि का देवता बृहस्पति है. जो इस वर्ष महामंत्री भी है. इसलिए देश के महत्वपूर्ण व्यक्तियों, मंत्रियों और राज कार्यों से जुड़े लोगों पर सूर्य ग्रहण का कुप्रभाव पड़ेगा.

देश के व्यापारियों और चिकित्सकों पर भी इस सूर्य ग्रहण का बुरा प्रभाव पड़ेगा. वहीं भारत की अर्थव्यवस्था पर भी 26 दिसंबर को पड़ने वाले सूर्य ग्रहण का बुरा प्रभाव पड़ेगा. सैन्य कार्यों, हथियार बनाने वाली कंपनियों पर भी इस सूर्य ग्रहण का कुप्रभाव पड़ेगा.

सूर्य ग्रहण के प्रभाव के चलते देश में महंगाई भी बढ़ सकती है. खाने-पीने की चीजें आवश्यक्ता से अधिक महंगी हो सकती है. जमीन के नीचे उगने वाली सब्जियों का मूल्य भी इस समय में बढ़ सकता है. इसके अलावा इस समय में कई जगहों पर सूखा भी पड़ सकता है और किसानों की समस्या और अधिक बढ़ सकती है.

धनु राशि में पांच ग्रहों के प्रभावित होने पर सैन्य बल का अधिक प्रयोग किया जा सकता है. यदि भारत की कुंडली पर विचार किया जाए तो उसकी नाम राशि धनु है जो लग्न कुंडली के हिसाब से अष्टम भाव में है.

सूर्य ग्रहण पड़ने के कारण भारत के कुछ राज्यों पर इसका ज्यादा असर देखने को मिल सकता है. वहीं लोगों में इस समय में भय की स्थिति भी रहेगी. इस समय में भारत को अपने पड़ोसी दुश्मन देशों पाकिस्तान और चीन से सतर्क रहने की जरूरत है.

इसके साथ ही सूर्य ग्रहण के प्रभाव की वजह से तूफान या फिर भूकंप आदि भी आ सकते हैं. इसके अलावा इस समय में कहीं पर आग लगने जैसी घटनाएं भी घट सकती हैं. इस समय में देश में कुछ संक्रमित बीमारियों का खतरा भी बढ़ सकता है.

Chandra Darshan 2019 Date: चंद्र देव के पूजन और व्रत का है खास महत्व, खुल जाएगा आपका भाग्य, जानिए चंद्रमा दर्शन दिवस की तारीख

Chandra Grahan 2020 Date: जानें चंद्र ग्रहण 2020 की तारीख व समय, नये साल में होंगे 4 चंद्र ग्रहण

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App