नई दिल्ली. 26 दिसंबर को इस साल का तीसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है. धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सूर्य ग्रहण को अशुभ माना जाता है. धार्मिक और वैज्ञानिक दृष्टि से प्रकृति, व्यक्ति और जीव-जंतुओं पर सूर्य ग्रहण का गहरा प्रभाव पड़ता है. यह सूर्य ग्रहण भारते खे केरल राज्य में दिखाई देगा. भारत के अलावा ये सूर्य ग्रहण पूर्वी यूरोप, एशिया, उत्तरी- पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया और पूर्वी अफ्रीका में भी दिखाई देगा.

26 दिसंबर 2019 को लगने वाला सूर्य ग्रहण पूर्ण सूर्यग्रहण होगा, इसमे सूर्य एक आग की अंगूठी की तरह दिखाई देगा. वैज्ञानिकों की भाषा में इसे वलयाकार सूर्य ग्रहण भी कहा जाता है. इस ग्रहण में केवल सूर्य के बीच वाला भाग ही छाया क्षेत्र में आता है और सूर्य के बाहर का क्षेत्र प्रकाशित होता है.

सूर्य ग्रहण समय (Surya Grahan Timing)

सूर्य ग्रहण दिसंबर 2019 प्रारंभ समय- सुबह 8 बजकर 17 मिनट (26 दिसंबर 2019)
सूर्य ग्रहण दिसंबर 2019 परमग्रास- सुबह 9 बजकर 31 मिनट तक (26 दिसंबर 2019)
सूर्य ग्रहण दिसंबर 2019 समाप्ति समय- सुबह 10 बजकर 57 मिनट को (26 दिसंबर)
खण्डग्रास की अवधि- 02 घंटे 40 मिनट
सूतक प्रारंभ समय- शाम 05 बजकर 32 मिनट (25 दिसंबर)
सूतक समाप्त समय- सुबह 10 बजकर 57 मिनट तक (26 दिसंबर)

सूर्य ग्रहण के समय क्या ना करें-

  • ग्रहण के समय खाना बनाना और खाना खाने की मनाही होती है.
  • इस दौरान कोई भी शुभ काम नहीं करना चाहिए.
  • ग्रहण के समय में सुई में धागा डालने की मनाही होती है.
  • ग्रहण के दौरान मूल-मूत्र, दातों की सफाई, बालों में कंघी नहीं करनी चाहिए.
  • गर्भवती महिलाएं चाकू, छुरी या किसी भी नुकीली चीज का इस्तेमाल ना करें.
  • सिलाई- कढ़ाई का काम ना करें.
  • ग्रहण को नंगी आखों से ना देखें.
  • इस दौरान किसी भी भगवान की मूर्ति, तुलसी और शमी के पौधे को न छुएं.

सूर्य ग्रहण के समय क्या करें- 

  • गर्भवती महिलाओं को अपना खास ख्याल रखना चाहिए, उन्हें किसी भी तरह का काम नहीं करना चाहिए.
  • ग्रहण के खत्म होने के बाद गर्भवती महिलाओं को स्नान जरूर करना चाहिए.
  • सूतक काल के दौरान भगवान की अराधना, भजन और मंत्रों का उच्चारण करना चाहिए.
  • ग्रहण खत्म होने के बाद घर में गंगाजल छिड़क कर शुद्धिकरण करें.
  • सूतक के बाद पीने का पानी बदल लें
  • सूतक के दौरान घर के मंदिर का पट बंद कर दें.
  • सूर्य ग्रहण खत्म होने के बाद गरीब और जरूरतमंद को कपड़े खाना आदि दान करें.

Also Read, ये भी पढ़ें– Utpanna Ekadashi Katha : जानिए उत्पन्ना एकादशी कथा, आखिर क्यों होती है देवी उत्पन्न की पूजा

Utpanna Ekadashi Date 2019 : उत्पन्ना एकादशी क्यों मनाई जाती है, जानिए इसकी कहानी और एकादशी व्रत के महत्व

Surya Grahan 2019 December: जानें कब है साल का अंतिम सूर्य ग्रहण, कर्क, तुला और कुंभ राशि को छोड़कर बाकी राशियों को हो सकता है भारी नुकसान

Ravivar ke Totke: रविवार के ये असरदार उपाय चमका देंगे भाग्य, दूर होंगे संकट, होगी धन की बारिश

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App