नई दिल्ली. रविवार के दिन भगवान सूर्य की पूजा अराधना की जाती है. मान्यता है कि रविवार को सू्र्यदेव की पूजा से व्यक्ति यश और वैभव प्राप्त होता है. इसके साथ ही घर की दरिद्रता दूर होती है, समाजिक जीवन में सम्मान में बढ़ोतरी होती है. वहीं रविवार के पूजन से व्यक्ति को धन भी प्राप्त होता है. जिस पर सूर्य देव की कृपा बरसती है उसके सभी संकट दूर हो जाते हैं. इसके साथ ही जल चढ़ाने का भी खास महत्व बताया गया है. लेकिन सूर्यदेव की पूजा और अर्घ्य देने से पहले कई बातों का ध्यान रखना बेहद जरूरी है.

सबसे पहले रविवार के दिन उठकर स्नान कर लें, जिसके बाद सूर्यदेव को जल अर्पित करें. जल अर्पित करते समय खास ध्यान रखें कि जिस लौटे से आप अर्घ्य देने जा रहे हैं वह ताबें का है या नहीं. सिर्फ तांबे के लौटे से सूर्य देव को जल अर्पित करें. जल अर्पित हो जाने पर धूप जलाकर पूजन करें. उस लौटे में फूल-चावल भरना ना भूलें. वहीं रविवार के दिन लाल वस्त्, गुड़, तांबे के बर्तन, लाल चंदन आदि सामानों का दान करें. दिन में एक बार फलहार जरूर करें. इसके साथ ही रविवार के सूर्य देव को प्रसन्न करने के लिए व्रत भी किया जाता है.

जल चढ़ाने का महत्व
रविवार के दिन सूर्यदेव की पूजा के साथ जल चढ़ाने को काफी शुभ माना गया है. अगर आप ऐसा प्रतिदिन ऐसा करते हैं तो भगवान की कृपा आपके ऊपर बरसती है. इसके साथ ही माना जाता है कि जल अर्पित करने से सभी परेशानियां तो दूर होती ही हैं साथ-साथ आर्थिक वृद्धि होनी शुरू हो जाती है. अगर किसी भक्त से सूर्यदेव प्रसन्न हो जाते हैं तो उसके घर की तिजौरी कभी खाली नहीं रहती.

Putrada Ekadashi 2019: पौष पुत्रदा एकादशी व्रत आज, इन उपायों से होगी संतान प्राप्ति

Family Guru Jai Madaan: हाथ में पैसा रोकने वाली वास्तु टिप्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App