July 21, 2024
  • होम
  • Som Pradosh Vrat 2024: कब है सोम प्रदोष व्रत? भोलेनाथ हर लेंगे हर दुख-परेशानी जरूर करें इस दिन दीपदान

Som Pradosh Vrat 2024: कब है सोम प्रदोष व्रत? भोलेनाथ हर लेंगे हर दुख-परेशानी जरूर करें इस दिन दीपदान

  • WRITTEN BY: Tuba Khan
  • LAST UPDATED : May 20, 2024, 9:40 am IST

नई दिल्लीः प्रदोष व्रत के दिन भगवान शिव और देवी पार्वती की पूजा की जाती है। इस दिन भक्त व्रत रखते हैं और विशेष रूप से भगवान शिव की पूजा करते हैं। उनका कहना है कि भोलेनाथ को यह चौकी बहुत प्रिय है. प्रति माह दो प्रदोष व्रत होते हैं। इस बार यह व्रत 20 मई 2024, सोमवार को रखा जाएगा। सोमवार के दिन पड़ने के कारण इसे सोम प्रदोष कहा जाता है। ज्योतिष शास्त्र के मुताबिक, अगर इस शुभ तारीख पर भोलेनाथ की पूजा के साथ कुछ खास उपाय किए जाए, तो जिंदगी की दशा बदल सकती है। साथ ही सारे काम सिद्ध हो सकते हैं।

ऐसे में इस शुभ दिन पर जो व्यक्ति विधि-विधान से भगवान शंकर की पूजा करने के बाद रात्रि भोजन के समय दीप दान करता है, उसे उसकी इच्छित वस्तु की प्राप्ति होती है।

दीपदान करें

सुबह साफ-सफाई का ध्यान रखते हुए व्रत का संकल्प लें। शाम को स्नान करें. इसके बाद वेदी पर भगवान बोहलेनाथ की मूर्ति स्थापित करें। श्रद्धापूर्वक जलाभिषेक करें। चंदन का त्रिपुंड लगाएं. सफेद पुष्पों की माला अर्पित करें। फल, मिठाई और घर का बना प्रसाद चढ़ाएं। शिव तांडव स्तोत्र, पंचाक्षरी मंत्र और शिव चालीसा का जाप करें। प्रदोष काल में शाम के समय महादेव को दीपदान करें। इसके बाद उनकी आरती करें. शंख ध्वनि के साथ पूजा समाप्त करें। पूजा के दौरान हुई गलती के लिए क्षमा मांगें.

जानें ​कब है त्रयोदशी तिथि ?

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, वैशाख माह की शुक्ल पक्ष त्रयोदशी तिथि सोमवार, 20 मई 2024 को दोपहर 3:58 बजे शुरू हो रही है। वहीं, ​इस तिथि की समाप्ति अगले दिन यानी 21 मई दिन मंगलवार शाम 05 बजकर 39 मिनट पर होगी। त्रयोदशी तिथि में प्रदोष काल 20 मई को पड़ रहा है, जिसके चलते साल का पहला सोम प्रदोष व्रत 20 मई को रखा जाएगा।

पंचाक्षरी मंत्र

।।ॐ नम: शिवाय।।

यह भी पढ़ें –

Bank Holiday: इस सप्ताह सिर्फ 3 दिन खुलेंगे बैंक, यहां देखें RBI द्वारा जारी हॉलिडे लिस्ट

 

 

 

Tags

विज्ञापन

शॉर्ट वीडियो

विज्ञापन