नई दिल्ली. शीतला सप्तमी और शीतला अष्टमी देवी शीतला को समर्पित त्यौहार हैं, जिन्हें शीतला, नारी शक्ति का अवतार या शक्ति के रूप में भी जाना जाता है. कुछ क्षेत्रों में, जो श्रद्धालु अमावसंत कैलेंडर का पालन करते हैं, वे फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष सप्तमी को देवी शीतला की पूजा करते हैं, जबकि अन्य उन्हें कृष्ण पक्ष फाल्गुन, अष्टमी पर शगुन देते हैं. हालांकि, पूर्णिमांत कैलेंडर के अनुसार, शीतला सप्तमी और शीतला अष्टमी चैत्र, कृष्ण पक्ष सप्तमी और अष्टमी पर मनाई जाती है. दिलचस्प है, महीनों के नाम अलग-अलग हैं, लेकिन दिन समान हैं. शीतला सप्तमी और शीतला अष्टमी 2021 तिथियां और महत्व जानने के लिए पढ़ें.

शीतला सप्तमी 2021 तिथि

इस साल शीतला सप्तमी 3 अप्रैल को मनाई जाएगी.

शीतला अष्टमी या बसौड़ा 2021 तिथि
इस वर्ष, शीतला अष्टमी, जिसे बसोड़ा के रूप में भी जाना जाता है, 4 अप्रैल को मनाया जाएगा.

शीतला सप्तमी या बसोड़ा महत्व

स्कंद पुराण में वर्णित एक कथा के अनुसार, देवी मां पार्वती के लिए देवताओं की बलि (हवन) की रस्म अदा करने के दौरान मां शीतला का उदय हुआ. इसके साथ ही, भगवान शिव के पसीने की एक बूंद धरती पर गिरने के बाद, ज्वालासुरा नाम का एक राक्षस प्रकट हुआ. यह दानव बीमारियों को फैलाने और मानवता को नुकसान पहुंचाने वाला था. हालांकि, देवी शीतला द्वारा बीमारियों को ठीक करने के बाद उन्होंने अपनी शक्तियों को खो दिया. इसलिए, भक्त शीतला देवी की पूजा करते हैं ताकि चिकनपॉक्स, खसरा और अन्य गर्मी से होने वाली बीमारियों को ठीक किया जा सके.

Ganesh Ji Budhwar Totke : लगातार सात बुधवार को करें ये 10 उपाय, विघ्नहर्ता गणेश जी की बनी रहेगी कृपा

Vastu Tips : घर की गलत सीढ़ियां आपकी तरक्की में बनती हैं रूकावट, जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र?