Shardiya Navratri 2020: अश्विन मास के शुक्ल की प्रतिपदा तिथि से शारदीय नवरात्रि (Shardiya Navratri) प्रारंभ होती है. इस समय में मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की पूजा की जाती है और व्रत रखा जाता है. माना जाता है कि नवरात्रि का व्रत करने से मां दुर्गा प्रसन्न होती हैं और अपने भक्तों के सभी कष्टों को हर लेती हैं. लेकिन नवरात्रि पर कुछ नियमों का पालन अत्यंत आवश्यक है. इस आर्टिकल में हम आपको शारदीय नवरात्रि से जुड़े कुछ ऐसे नियमों के बारे में बताएंगे जिनका पालने करने पर आपका जीवन खुशियों से भर जाएगा.

जानें शारदीय नवरात्रि 2020 के नियम

  • शारदीय नवरात्रि के दिन साधक को ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए. क्योंकि बिना ब्रह्मचर्य का पालन किए बिना नवरात्रि का पूर्ण नहीं होता.
  • ब्रह्ममुहूर्त पूजा के लिए सबसे ज्यादा उत्तम माना जाता है. इसलिए आपको शारदीय नवरात्रि की पूजा ब्रह्ममुहूर्त में ही करनी चाहिए.
  • नवरात्रि व्रत में आपको भूलकर भी बाहर की व्रत की थाली नहीं खानी चाहिए. ऐसा करने से आपका व्रत टूट सकता है.
  • यदि आप नवरात्रि का व्रत या पूजन करते हैं तो इस बात का विशेष ध्यान रखें की आपके घर में किसी भी प्रकार का कोई कलेश न हो.
  • अगर आप शारदीय नवरात्रि का व्रत रखते हैं तो आपको पूरे नवरात्रि के नौ दिनों तक नाखून और बाल बिल्कुल भी नहीं काटने चाहिए.
  • नवरात्रि पर आपको नौ दिनों तक मां दुर्गा का मन ही मन जाप अवश्य करते रहना चाहिए.
  • यदि आप शारदीय नवरात्रि का व्रत करते हैं तो आपको जमींन पर ही सोना चाहिए. इस समय में आपको भूलकर भी पलंग पर नहीं सोना चाहिए.
  • नवरात्रि में अखंड ज्योत को विशेष महत्व दिया जाता है. इसलिए आपक नवरात्रि के नौ दिनों तक अखंड ज्योत जलाकर उसका ध्यान रखना चाहिए.
  • आपको पूरे नवरात्र किसी भी प्रकार का कोई अनैतिक काम नहीं करना चाहिए. यदि आप ऐसा करते हैं तो आपको मां दुर्गा के क्रोध का सामना करना पड़ेगा.
  • नवरात्रि के नौ दिनों तक आपको पूरे श्रद्धा भाव से मां दुर्गा की पूजा और आराधना करनी चाहिए.

Vastu Tips: घर के मंदिर से जुड़ी ये गलतियां पड़ सकती हैं आप पर भारी, इन बातों का रखें ध्यान

Karva Chauth 2020 Mang Sindoor: करवा चौथ 2020 पर ऐसे भरें अपनी मांग में सिन्दूर, चमकेगी किस्मत

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर