Shardiya Navratri 2020: कुछ ही दिनों बाद शारदीय नवरात्रि आरंभ हो जाएंगे. जो 17 अक्तूबर से 26 अक्तूबर तक चलेगा. इस बार नवरात्रि एक महीने की देरी से शुरू हो रहे हैं. हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस बार नवरात्रि चित्रा नक्षत्र में होने से सुख और समृद्धिदायक रहेगी. शारदीय नवरात्रि में किसी भी तिथि का लोप नहीं है जिस कारण से 9 दिनों तक माता के अलग-अलग स्वरूपों की उपासना की जाएगी. नवरात्रि के पहले दिन आश्विन माह की प्रतिपदा तिथि पर कलश स्थापना की जाएगी. नवरात्रि के पूरे नौ दिनों तक माता के अलग-अलग स्वरूपों की पूजा करने के साथ उन्हें हर दिन अलग-अलग भोग भी अर्पित किए जाएंगे.

शारदीय नवरात्रि 2020 पहला दिन

शनिवार 17 अक्तूबर से आरंभ होने वाले नवरात्रि में पहले दिन कलश स्थापना करके माता शैलपुत्री की पूजा की जाएगी और उन्हें गाय के दूध से बनी चीजों का भोग लगाया जाएगा.

शारदीय नवरात्रि 2020 द्वितीया तिथि

नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्माचारिणी की पूजा की जाएगी. इस दिन माता को शक्कर का भोग लगाया जाता है.

शारदीय नवरात्रि 2020 तृतीया तिथि

नवरात्रि के तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की आराधना होगी जिसमें उन्हें घी का भोग लगाया जाएगा.

शारदीय नवरात्रि 2020 चतुर्थी तिथि

चौथा दिन मां कुष्मांडा का दिन होता है. ऐसे में इस दिन इन्हें मालपुआ का भोग लगाकर उन्हें प्रसन्न किया जाएगा.

शारदीय नवरात्रि 2020 पंचमी तिथि

पंचमी तिथि पर मां स्कंदमाता की पूजा- आराधना होती है. इस दिन माता को केले का भोग अर्पित किया जाएगा.

2020 षष्ठी तिथि

मां कात्यायनी का दिन है इस दिन माता को शहद का भोग लगाया जाता है.

2020 सप्तमी तिथि

मां कालरात्रि को गुड़ का भोग लगाया जाएगा.

2020 अष्टमी तिथि

मां महागौरी का दिन होता है इस तिथि पर माता को नारियल का भोग लगाया जाता है.

2020 नवमी तिथि

सिद्धिदात्री का दिन होता है. नवरात्रि पर इस दिन माता को धान की लाई का भोग लगता है.

Shardiya Navratri Prarambh 2020: शारदीय नवरात्रि पर गृह प्रवेश करने वाले रखें इन बातों का विशेष ध्यान

Kanakdhara Mantra: कर्ज से छुटकारा पाने के लिए करें इस मंत्र का जाप, जीवन में आएगी खुशी