नई दिल्ली. Sankashti Chaturthi Pooja 2019: भारत देश अपने अगल-अलग उत्सवों को लेकर पूरी दुनिया में मशहूर है. ऐसें में आज देश में हिंदू धर्म का सबसे अनोखा पर्व संकष्टी चतुर्थी मनाया जा रहा है. संकष्टी चतुर्थी (सकट चौथ) को मनाने से आपका जीवन संकट मुक्त रहता है. सकट चौथ के इस पर्व पर भगवान गणेश की पूजा-अर्चना की जाती है. ऐसें में हम आपको संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा के माध्यम से बताएंगे कि इस पावन पर्व पर भगवान गणेश जी की पूजा क्यों कि जाती है और हिंदू धर्म में सकट चौथ की मान्यता इतनी अधिक क्यों है.

जानिए संकष्टी चतुर्थी व्रत कथा-

यह कहानी सत्ययुग कि है यहां महाराज हरिश्चंद्र के नगर में एक कुम्हार निवासी था. एक बार उसने अपने दैनिक कार्य के अनुसार कुछ बर्तन बनाएं और फिर उनको आग में पकाया (आंवा) लगाया. लेकिन उस दिन उस कुम्हार का बनाया एक भी बर्तन पका नहीं.

ऐसे में उस कुम्हार ने अपना नुकसान होते हुए एक तांत्रिक से सलाह ली, उस तांत्रिक ने कुम्हार को बताया कि तुमको किसी की बलि देने की तब जाकर तेरी समस्या का निवारण होगा. ऐसे में अपनी समस्या से निजात पाने के लिए कुम्हार ने तपस्वी ऋषि शर्मा के देहांत के बाद बेसहारा हुए उनके पुत्र की सकट चौथ के दिन बलि दे दी.

उस लड़के की माता ने उस दिन भगवान गणेश की पूजा की थी. दिन भर अपने पुत्र की तलाश मे वह महिला भटकती रही और पुत्र न मिलने पर उस स्त्री ने भगवान गणेश से प्रार्थना की. ऐसें में सुबह के समय कुम्हार ने उस लड़के को जीवित देख डर की वजह से राजा के समक्ष अपना गुनाह कबूल कर लिया था.

जब राजा ने उस वृद्ध महिला से इस चमत्कार के बारे में पूछा तो तब उस स्त्री ने गणेश पूजा के बारे में बताया. उसके बाद राजा ने सकट चौथ की महिमा को स्वीकारते हुए पूरे नगर में गणेश पूजा करने का आदेश दिया.

गौरतलब है कि उस दिन से लेकर अब तक हिंदू धर्म में संकष्टी चतुर्थी को खास पर्वों में से एक माना जाता है. हर साल होली के पावन पर्व के बाद सकट चौथ के इस उत्सव को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है. इस दिन महिलाऐं संकष्टी चतुर्थी पर निर्जला व्रत रख कर अपनी बच्चों की सलामती के लिए भगवान गणेश की आराधना करती है.

Sankashti Chaturthi Pooja 2019: जानिए संकष्टी चतुर्थी के खास मौके पर भगवान गणेश को खुश करने की पूजा विधि और शुभ मुहूर्त

Sakat Chauth 2019 Puja Vidhi: क्यों रखा जाता है सकट चौथ व्रत, क्या है पूजा विधि और कथा, जानिए

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App