नई दिल्ली: भारत एक धार्मिक परंपराओं वाला देश हैं, यहां लोग काफी भगवान की पूजा, अर्चना में समय बिताते हैं, ऐसे ही व्रत के लिहाज से एक बड़ा पर्व आने वाला है, इस बार सफला एकादशी व्रत, 9 जनवरी को है, भारत में सफला एकादशी की काफी मान्यता है. बताया जाता है कि सफला एकादशी व्रत के माध्यम से आप भगवान नारायण को प्राप्त कर सकते हैं, यह एकादशी पौष मास की कृष्ण पक्ष में आने वाली एकादशी है जो कि इस बार 9 जनवरी को है.

इस व्रत की काफी मान्यता है यह व्रत मोक्षदायी भी माना जाता है, लेकिन इस व्रत के संपूर्णता के लिए व्रत में रात्रि जागरण करना आवश्यक है, इस व्रत के बारे में कहा जाता है कि परिवार में किसी एक के भी एकादशी का व्रत करने से कई पीढ़ियों के सभी पाप भी नष्ट हो जाते हैं.सफला एकादशी का व्रत दशमी तिथि से ही शुरू हो जाती है, इसी कारण दशमी तिथि की रात में एक ही बार भोजन करना चाहिए, एकादशी के दिन धूप, दीप व मौसम के अनुसार मीठे फलों से भगवान नारायण का पूजन करना चाहिए, और द्वादशी तिथि के दिन स्नान करने के बाद जरूरतमंदों को अन्न, गर्म कपड़े और दक्षिणा देने के बाद ही प्रसाद ग्रहण करना चाहिए, अगर आप ठीक हैं तो किसी तीर्थस्थान जैसे हरिद्वार, प्रयागराज, उज्जैन आदि में व्रत करेंगे तो यह और अति शुभ फल प्रदान करता है, और यदि कोई व्रत नहीं कर सकता है तो उसे चावल नहीं खाने चाहिए और उस दिन ब्रह्मचर्य रहना चाहिए.

ऐसी मान्यता है कि इस व्रत को करने से सारे पाप दूर हो जाते हैं, और इंसान के सारे दुख कष्ट भी कम होते हैं. बता दें कि इस दिन भगवान विष्णु का ध्यान करने से लाभ प्राप्त होता है और भगवान विष्णु प्रसन्न होते हैं.

Sankashti Chaturthi 2021: आज के दिन करें भगवान गणेश और शनिदेव का पूजन, घर में आएगी खुशहाली और बढ़ेगी शुख समृर्द्धि

Shukarwar Ke Upay: शुक्रवार के दिन करें ये 5 उपाय, साल भर होगी धन की बरसात