Sunday, September 25, 2022

राखी बांधते समय क्यों लगाते हैं तीन गांठें? जान लें

नई दिल्ली, भाई बहन के रिश्ते को सेलिब्रेट करने के लिए हिंदू धर्म में रक्षाबंधन का त्यौहार मनाया जाता है, इस दिन बहनें अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती हैं और उनकी लंबी उम्र की कामना करती है. वहीं, भाई भी बहन की रक्षा करने वचन देता है. कहने को तो यह भाई-बहन का त्योहार है, लेकिन इसे मनाते समय कुछ ख़ास बातों का ध्यान रखना चाहिए, जैसे कि :

तीन गांठ बांधें

रक्षाबंधन के दिन जब बहनें अपने भाईयों की कलाई पर राखी बांधती हैं तो उस समय गांठ बांधते समय कुछ बातों का ध्यान रखना बहुत ज़रूरी है. क्या आपने राखी बांधते समय यह सोचा है कि कलाई पर कितनी गांठ बांधनी चाहिए, कुछ को तो इस बारे में पता होगा, लेकिन कुछ को नहीं. राखी बांधते समय कलाई पर राखी की तीन गांठें बांधनी चाहिए, इसका धार्मिक महत्व भी है. कलाई पर बांधीं जाने वाली तीन गांठों का संबंध भगवन से है, यानी कि ब्रह्मा, विष्णु और महेश. हर गांठ इन भगवानों के नाम पर समर्पित होती है, इसलिए तीन गाठों को बांधना बेहद शुभ माना जाता है.

शुभ मुहूर्त

भाई बहन के प्रेम का पवित्र त्योहार रक्षाबंधन हर साल शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को पड़ता है, इस बार पूर्णिमा ति​​थि 11 और 12 अगस्त यानि दो दिन पड़ रही है इसलिए इस बार रक्षाबंधन की तारीख को लेकर कन्फ्यूज़न है. ऐसे में अगर आप भी रक्षाबंधन की सही तारीख को लेकर कंफ्यूज हैं तो परेशान न हों हिंदू पंचांग के मुताबिक सावन माह की शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा 11 अगस्त को सुबह 10 बजकर 38 मिनट से शुरू होगी जो अगले दिन 12 अगस्त को सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर खत्म होगी.

मान्यता है कि य​दि राखी शुभ मुहूर्त में बांधी जाए तो भाई-बहन का रिश्ता और भी ज़्यादा मज़बूत हो जाता है, ऐसे में आपको राखी बांधने का शुभ मुहूर्त पता होना चाहिए. राखी बांधने का शुभ मुहूर्त 11 अगस्त को सुबह 9 बजकर 28 मिनट से शुरू होगा और रात 9 बजकर 14 मिनट तक रहेगा. इस दौरान आप कभी भी अपने भाई को राखी बाँध सकते हैं.

 

बिहार: 8वीं बार मुख्यमंत्री बने नीतीश कुमार, तेजस्वी यादव ने ली उपमुख्यमंत्री पद की शपथ

Latest news