नई दिल्ली. पुत्रदा व पवित्रा एकादशी श्रावण मास में आती है. जिसे श्रावण मास के 11वें दिन मनाया जाता है. इस बार पुत्रदा, पवित्रा एकादशी 22 अगस्त को है.पुत्रदा का अर्थ है पुत्र प्रदान करने वाला. जैसा कि शब्द से ही पता चल रहा है कि इस व्रत को पुत्र प्राप्ति के लिए किया जाता है. इस दिन विधि विधान पूर्वक कर भगवान विष्णु मनचाहा फल देते हैं.

Shravana Putrada Ekadashi 2018, पुत्रदा व पवित्रा एकादशी व्रत कथा
महिष्मति नाम के गांव में महीजित नाम का राजा राज्य करता था. लेकिन महीजित राजा के कोई पुत्र नहीं था जिसकी वजह से वह दुखी रहते थे. राजा ने पुत्र सुख की प्राप्ति के लिए कई उपाय किए लेकिन परिणाम नहीं निकला. वृद्धावस्था आती देखकर राजा ने प्रजा के प्रतिनिधियों को बुलाया और सबसे कहा कि आखिर मुझे यह दुख क्यों प्राप्त हो रहा है. मैंने आज तक कोई काम गलत नहीं किया.

राज की बात सुन सभी प्रजापति वन में किसी श्रेष्ठ मुनि को देखने के लिए गए. तब प्रतिनिधियों ने एक आश्रम में एक मुनि को देखा जो बेहद ज्ञानी व अनुभवी थे. ये मुनि कोई और नहीं बल्कि लोमश ऋषि थें. प्रतिनिधियों ने लोमश ऋषि को सब बतलाया कि उनके राजा बेद दुखी हैं क्योंकि वह पुत्रवहीन है. जिसके बाद लोमश ऋषि ने बताया कि राजा ने पिछले जन्म में ज्येष्ठ माह में एक गाय को पानी पीते हुए हटा दिया था और खुद पानी पीने लगा.

इस पाप की वजह से राजा को यह दुख प्राप्त हुआ. जिसके बाद मुनि ने राजा व प्रजा को पुत्रदा एकादशी का व्रत करने की सलाह दी. लोकेश ऋषि की कही बातों का सबने पालन किया और इस व्रत का राजा को फल भी प्राप्त हुआ. तभी कहा जाता है कि इस व्रत को करने से सभी पापों से छुटकारा मिलता है और पुत्र प्राप्ति होती है.

श्रावण पुत्रदा एकादशी शुभ मुहूर्त व परना का समय
श्रावण पुत्रदा एकादशी : 22 अगस्त, 2018 (बुधवार)
श्रावण पुत्रदा एकादशी पारणा मुहूर्त : 05:54:16 से 08:30:01 तक 23, अगस्त को
अवधि: 2 घंटे 35 मिनट

Sharad Purnima 2018 Date Calendar: शरद पूर्णिमा में ऐसे करे मां लक्ष्मी की पूजा

Karva Chauth 2018 Dates Calendar: कब है करवा चौथ 2018, करवा चौथ व्रत तारीख डेट कैलेंडर

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App