नई दिल्ली. हिन्दूं धर्म में नवरात्रि का अपना अलग महत्व है. हर साल नवरात्री काफी धूमधाम से मनाया जाता है. दुर्गा मां के 9 नौ रुपों की पूजा की जाती है. इन दिनों के अपने महत्व होते हैं. हर दिन दूर्गा मां के अलग-अलग रुपों की पूजा की जाती है. पहले दिन से लेकर 9 दिन तक हर माता के लिए अलग-अलग रंग होते हैं. हर दिन और मां दुर्गा के रुपों के अनुसार रंग का भी काफी महत्व होता है. चलिए जानते हैं इन नौ दिनों के रंगों के महत्व.

पहला दिन– नवरात्रि का पहला दिन मां शैलीपुत्री की पूजा की जाती है. इस दिन लाल रंग का उपयोग करना चाहिए क्योंकि मां शैलपुत्री को लाल रंग पसंद है. इस दिन लाल रंग का प्रयोग करने पर मां शैलपुत्री शीघ्र प्रसन्न होकर निर्णय क्षमता में वृद्धि करती हैं और इच्छ‍ित फल प्रदान करती है

दूसरा दिन– नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रम्हचारिणी की पूजा की जाती है. मां को पीला रंग काफी पसंद है, इसलिए दूसरे दिन पीले रंग का प्रयोग करें, इससे मां ब्रम्हचारिणी प्रसन्न होती हैं. नवरात्र‍ि के दूसरे दिन पीले रंग के वस्त्रादि का प्रयोग कर मां की आराधना करना शुभ होता है.

तीसरा दिन-तीसरे दिन मां चंद्रघंटा की पूजा की जाती है. मां को हरा रंग काफी पसंद है. इस दिन हरे का प्रयोग करें और चंद्रघंटा का आशीर्वाद लें. हरे रंग का प्रयोग करके पूजा करने से मां सुख शांति का वरदान देती है.

चौथा दिन– मां दुर्गा के कुष्मांडा स्वरूप का पूजन नवरात्र‍ि के चौथे दिन किया जाता है। रोगों को दूर कर, धन, यश की प्राप्ति के लिए सिलेटी रं से आप मां कुष्मांडा को प्रसन्न कर सकते हैं

पांचवा दिन– नवरात्रि के चौथे दिन मां स्कंदमाता की पूजा की जाती है, और मां को नारंगी रंग काफी पसंद है, मां स्कंदमाता सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री देवी है. इस दिन नारंगी रंग का प्रयोग करना चाहिए. इससे मां प्रसन्न होती है.

छठा दिन– नवरात्रि के छठे दिन को मां दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा की जाती है. मां कात्यायनी ऋषि कात्यायन के पूत्री हैं और इन्हें सफेद रंग काफी पसंद है. इस दिन सफेद रंग का इस्तेमाल करना चाहिए . इस दिन नारंगी रंग का प्रयोग शुभ फल प्रदान करता है

सातवां दिन– नवरात्रि के सातवें दिन मां कालरात्री की पूजा की जाती है. उनका पसंदीदा रंग गुलाबी है. मां दुर्गी के इस रुप की पूजा के लिे गुलाबी रंगो का प्रयोग करना काफी शुभ होता है. फूल आदि के साथ-साथ वस्त्र भी गुलाबी धारण करें

आठवां दिन– नवरात्र‍ि की अष्टमी तिथि, महागौरी का समर्पित है. मां महागौरी भक्तों में प्रसन्नता का संचार करती हैं. इस दिन हल्का नीला या आसमानी रंग का प्रयोग बेहद शुभ माना जाता है, जो असीम शांति प्रदान करता है

नौवां दिन– नवरात्र‍ि के नौंवे दिन, मां दुर्गा के सिद्धीदात्री स्वरूप का पूजन होता है. मां सिद्धीदात्री के पूजन में भी आप हल्के नीले रंग का उपयोग कर सकते हैं. चंद्रमा की पूजा के लिए यह सर्वोत्तम दिन.

Navratri 2019: नवरात्र के दौरान पूजा में इस्तेमाल होने वाली जौं सेहत के लिए भी है शानदार, फायदे सुनकर चौंक जाएंगे आप

Durga Puja 2019 Date: कब है दुर्गा पूजा 2019, क्या है महत्व, महालय और विजयदशमी