Friday, December 9, 2022
गुजरात नतीजे (182/182)  हिमाचल नतीजे (68/68) 
BJP - 156 BJP - 25
AAP - 05 CONG - 40 
CONG - 17  AAP - 00
OTH - 04  OTH - 03 

 Green Tea पीने के फायदे जानकर, आज से पीना कर देंगे शुरू

0
Green tea benefits: ग्रीन टी (Green tea) से होने वालों फायदों को लेकर तमाम दावे किए जाते हैं. कुछ लोग कहते हैं कि ग्रीन...

इन सवालों से समझें पूरे गुजरात चुनाव का गणित: क्यों AAP का दिल्ली मॉडल...

0
गाँधीनगर: यदि गुजरात में इस ऐतिहासिक भाजपा जीत के पीछे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम के अलावा कोई महत्वपूर्ण कारण है, तो वह है...

Himachal Election Result 2022: अन्य के खाते में आई 3 सीटे, जाने किसने की...

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस ने शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है।कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

हिमाचल से जीतने के बाद कांग्रेस विधायकों की चंडीगढ़ में बैठक, राजस्थान या छत्तीसगढ़...

0
नई दिल्ली: हिमाचल प्रदेश के कांग्रेस विधायक दल की बैठक चंडीगढ़ में होगी। कांग्रेस सूत्रों के मुताबिक पहले यहां चंडीगढ़ में जीते हुए विधायक...

Himachal Election Result 2022: कांग्रेस ने मारी बाजी, जाने हर सीट के नतीजे

0
शिमला: हिमाचल प्रदेश में कांग्रेस शानदार प्रदर्शन करते हुए बीजेपी से आगे निकल गई है। कांग्रेस ने बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।...

Navratri 2022: बस इतनी देर ही है नवमी तिथि, इस शुभ मुहूर्त में करें हवन

नई दिल्ली. नवरात्रि हिन्दुओं का विशेष पर्व है, इस पावन अवसर पर मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-आराधना की जाती है. इसलिए यह पर्व नौ दिनों तक मनाया जाता है, वेद-पुराणों में मां दुर्गा को शक्ति का रूप माना गया है जो पाप का नाश करती हैं, नवरात्र के समय मां के भक्त उनसे अपने सुखी जीवन और समृद्धि की कामना करते हैं. नवरात्र एक साल में चार बार मनाई जाती है, नवरात्रि में कई जगहों पर मेलों का भी आयोजन किया जाता है. नवमी के दिन माता सिद्धिदात्री की पूजा की जाती है. इस दिन भक्तगण मां सिद्धिदात्री की विधिवत पूजा-अर्चना करने के साथ हवन भी करते हैं, साथ ही इस दिन कन्या पूजन का भी विधान है. नवमी तिथि के दिन जो लोग भी नौ दिन का व्रत रखते हैं वो अपने व्रत का पारन करते हैं.

शुभ मुहूर्त

नवमी का शुभ मुहूर्त आज यानी 3 अक्टूबर को शाम 04 बजकर 37 मिनट से शुरू हो चुका है, जो कि 4 अक्टूबर को दोपहर 02 बजकर 20 मिनट तक रहेगा, इसके बाद दशमी तिथि शुरू हो जाएगी. हिंदू पंचांग के मुताबिक, महानवमी 4 अक्टूबर को मनाई जाएगी, वहीं मंगलवार दोपहर 1.32 बजे तक हवन का सबसे अच्छा मुहूर्त है. वहीं सुबह 9.10 बजे से साढ़े 11 बजे के बीच स्थिर लग्न में भी हवन काफी शुभ माना जाता है. इसी के साथ हवन का तीसरा शुभ मुहूर्त सुबह साढ़े 11 बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक रहेगा, वहीं नवमी तिथि के समापन से पहले हवन करना बहुत शुभ है क्योंकि इसके बाद दशमी तिथि शुरू हो जाएगी. ‘

कन्या पूजन के दौरान इन बातों का रखें ध्यान

कन्या पूजन के लिए कन्याओं को प्रेम पूर्वक अपने घर में बुलाएं और आदर के साथ उनके विदा करें.
कन्या पूजन के लिए हमेशा 02 से 10 साल कन्याओं को आमंत्रित करें, ध्यान रखें कन्या पूजन के लिए हमेशा 09 कन्याओं को बुलाएं.
नवरात्रि में कन्याओं के साथ एक छोटे बालक को जरूर बुलाएं क्योंकि कन्याओं के साथ पूजे जाने वाले बालक को भगवान भैरव के रूप में पूजे जाने की सालों से परंपरा चली आ रही है.
कन्या पूजन आप अपनी मान्यता के मुताबिक अष्टमी या नवमी किसी भी दिन कर सकते हैं.
कन्या का पूजा करने से पहले उनके पैर अच्छे से धुलें और उसे पोंछने के बाद स्वच्छ आसन पर बिठाकर विधि-विधान पूजा करें और उसके बाद उन्हें खीर, हलवा, चना, पूड़ी आदि खिलाएं, इसी के साथ ध्यान रखें कन्या पूजन के बाद उन्हें जाते समय कन्याओं को कुछ न कुछ गिफ्ट या धन जरूरी दें. कन्याओं को विदा करने से पहले उनका आशीर्वाद लेना बिल्कुल न भूलें.

 

Bhadohi Fire: दुर्गा पूजा पंडाल में भीषण आग से हाहाकार, 3 लोगों की मौत, 64 झुलसे

Mulayam Singh Yadav: 1992 में किया था समाजवादी पार्टी का गठन, बीजेपी के समर्थन से बने थे पहली बार सीएम

Latest news