Sunday, September 25, 2022

Navratri 2022: नवरात्रि में माता के सामने अखंड ज्योति जलाते समय ज़रूर करें ये काम, बरसेगी कृपा

नई दिल्ली. नवरात्र हिन्दुओं का विशेष पर्व है, इस पावन अवसर पर मां दुर्गा के नौ रूपों की पूजा-आराधना की जाती है. इसलिए यह पर्व नौ दिनों तक मनाया जाता है, वेद-पुराणों में मां दुर्गा को शक्ति का रूप माना गया है जो पाप का नाश करती हैं, नवरात्र के समय मां के भक्त उनसे अपने सुखी जीवन और समृद्धि की कामना करते हैं. नवरात्र एक साल में चार बार मनाई जाती है, नवरात्रि में कई जगहों पर मेलों का भी आयोजन किया जाता है. हर साल माँ दुर्गा एक विशेष सवारी पर आती है और इस बार माँ की सवारी है हाथी.

नवरात्रि के दौरान मां के भक्त भारत वर्ष में फैले मां के शक्ति पीठों के दर्शन करने जाते हैं, इसे शारदीय नवरात्र भी कहते हैं. हिंदू पंचांग के अनुसार, नवरात्रि अश्विन मास के शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा से नवमी तक मनाई जाती है, इस बार नवरात्रि का महापर्व 26 सितंबर, सोमवार से शुरू होगा और 5 अक्टूबर, बुधवार तक देश भर में मनाया जाएगा. फिर दसवें दिन दुर्गा मां की प्रतिमा का विसर्जन कर दिया जाता है. अगर आप नवरात्रि में माता के सामने अखंड ज्योति जलाते हैं तो आइए आपको बताते हैं कि आपको किन बातों का खास ध्यान रखना चाहिए:

इन बातों का रखें ध्यान

  • आपको अखंड ज्योति को किसी पीतल या मिट्टी के बड़े दीए में ही जलाना चाहिए, ये ज्योति बुझनी नहीं चाहिए. इसके लिए आपको रात-दिन इस ज्योति का ख़ास ध्यान रखना चाहिए.
  • अखंड ज्योति को भूलकर भी जमीन पर न रखें, पूजा की चौकी पर मां अंबे की फोटो के आगे ही इस ज्योति को कलश के पास किसी ऊँचे स्थान पर रखें.
  • अखंड ज्योति के लिए आप गाय के घी का ही इस्तेमाल करें, वहीं अगर आपके पास गाय का घी नहीं है तो आप शुद्ध सरसों का तेल या तिल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं..
  • अखंड ज्योति जलाते वक्त आपको 9 दिन तक देवी की सच्चे मन से पूजा- आराधना करनी चाहिए. ध्यान रखें अखंड ज्योति जलाने से पहले प्रथम पूजनीय गणेश जी का स्मरण करना न भूलें.

Raju Srivastav: मुंबई में कभी चलाते थे ऑटो, ऐसे बनें कॉमेडी किंग ‘गजोधर भैय्या’

Latest news