नई दिल्ली. इस बार चैत्र के नवरात्रि 18 मार्च से शुरू हो रहे हैं. नवरात्रि का उत्साह व आनंद अभी से बाजारों में दिखाने लगा है. नवरात्रि की पूजा का महत्व हिंदू धर्म में खास होता है. इन नौ दिनों को सबसे पवित्र दिन माना जाता है. इन नौ दिन मां भगवती के नौ रूपों की पूजा की जाती है. इन नौ दिनों की पूजा में पहले दिन की पूजा सबसे अहम होती है. इस दिन घटस्थापना की जाती है, जिसे कलश स्थापना भी कहा जाता है. इसी के बाद नवरात्रि के नौ दिनों की पूजा आरंभ होती है. मां भगवती की पूजा शुरू करने से पहले घटस्थापना का विशेष महत्व होता है. इसके लिए कई नियम कायदे होते हैं.

लेकिन इस बार चैत्र के नवरात्रि 9 दिन की नहीं ब्लकि 8 दिन की ही होगी. 18 मार्च से शुरू होकर 25 मार्च तक नवरात्रि रहेंगे. 25 मार्च को ही अष्टमी और नवमी एक ही दिन होगी. जबकि ज्योतिषी के अनुसार नौ नवरात्रि होना ज्यादा शुभ होते हैं. बता दें चैत्र नवरात्रि को शक्ति पूजन के लिए खास माना जाता है. इन नवरात्र के लिए कहा जाता है कि नवरात्र से पहले मां आदिशक्ति अवतरित हुई थी. इन दिनों पूजा करने से मां की कृपा सदैव घर परिवार पर बनी रहती है.

चैत्र नवरात्रि 2018 घटस्थापना
घटस्थापना मुहूर्त: 06:31 से 07:46
अवधि: 1 घण्टा 15 मिनट

घटस्थापना मुहूर्त प्रतिपदा तिथि पर निर्धारित है
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ: 17 मार्च 2018 से 18:41 बजे
प्रतिपदा तिथि समाप्त: 18 मार्च 2018 से 18:31 बजे

Chaitra Navratri 2018: चैत्र नवरात्रि में करें ये 4 काम, मिलेगा मां दुर्गा का आशीर्वाद

Happy Navratri 2018: जानें, नवरात्रि में क्यों किया जाता है गरबा और डांडिया

आंध्र प्रदेशः विजयवाड़ा के सुब्रमण्या स्वामी मंदिर में एक भक्त ने भगवान को भेंट किया IPhone 6S

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App