Navratra 2020: रविवार को देशभर में दशहरा का त्योहार धूमधाम से मनाया जाएगा. इसी दिन शस्त्र पूजा का भी विधान है. दशहरा के दिन कई परिवारों जो घर में हथियार रखते हैं, उस हथियार की विधिवत पूजा करते हैं. जीवन में विजय प्राप्ति के लिए शस्त्र पूजा की जाती है. इस दौरान मां दुर्गा के अपराजिता स्वरूप की पूजा की जाती है साथ ही मां काली को भी प्रसन्न किया जाता है जो रौद्र रूप में रहती हैं. हिंदू पंचाग के अनुसार इस बार नवरात्र आठ दिन का ही रहा. इसके पीछे कारण ये है कि अष्टमी और नवमी का एक ही दिन पड़ गई जिससे नवरात्र का एक दिन घट गया. हालांकि घटता नवरात्र अशुभ माना जाता है. पंचांग के अनुसार 24 अक्टूबर सुबह 6:58 तक ही अष्टमी है और फिर नवमी लग रही है. दशमी तिथि 25 अक्टूबर सुबह 7:41 बजे से शुरू हो रही है. इसलिए दशहरा 25 अक्टूबर को मनाया जाएगा.

जिन लोगों ने शनिवार को अष्टमी मानकर कन्या पूजन नहीं किया है वो रविवार सुबह 7:41 से पहले कन्यापूजन कर सकते हैं. ऐसा करने से आपको नवमी में ही कन्या पूजन और दुर्गा विसर्जन का पुण्य मिलेगा. अगर आप दुर्गा सप्तशती का पाठ रोज करते हैं तो आज शाम या कल सुबह जल्दी उठकर पाठ खत्म करें और 7:41 से पहले कन्या पूजन कर लें.

दशमी 25 अक्टूबर सुबह 7:41 बजे से 26 अक्टूबर 9 बजे तक रहेगी. इस दौरान आप शस्त्र पूजा और शमी पूजा दोनों कर सकते हैं. कोरोना के चलते इस बार देश में दुर्गा पूजा की पारंपरिक धूम नहीं रही लेकिन कुछ जगहों पर दुर्गा पूजा का आयोजन किया गया है. अगर आपके घर के आसपास कहीं दुर्गा पूजा हो रही हो तो जरूर जाकर दर्शन करें लेकिन कोरोना से भी सावधान रहें और उचित दूरी का पालन करें.

Happy Durga Puja 2020 Ashtami Wishes: अष्टमी के मौके पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों को व्हाट्सएप, फेसबुक और GIF के जरिए भेजें शुभकामना संदेश

Durga Puja 2020 Sindoor Khela: दुर्गा पूजा के अंतिम दिन क्यों होती है सिंदूर खेला की रस्म, जानें इसका इतिहास