नई दिल्ली. इस साल नागपंचमी 5 अगस्त यानी कल मनाई जाएगी. 5 अगस्त को सावन सोमवार है. 20 साल बाद ऐसा संयोग हो रहा है कि सावन महीने के सोमवार को नागपंचमी पड़ रही है. सोमवार के दिन भगवान भोलेनाथ का दिन माना जाता है. सोमवार के दिन शिव जी की पूजा की जाएगी और साथ ही भगवान शिव के प्रिय नाग को दूध पिलाया जाएगा. सावन की तीसरी सोमवारी पांच अगस्त 2019 की है. उसी दिन शुक्ल पक्ष की पांचवी तिथि भी है. सावन माह के शुक्ल पक्ष की पांचवी तिथि को नागपंचमी मनाया जाता है. इस कारण सावन, सावन की सोमवारी और नागपंचमी एक ही दिन सोमवार को पड़ता है.

इस दिन कालसर्प योग, नागदोष से जो लोग पीड़ित हैं, उन्हें पूजा, अनुष्ठान करने से विशेष लाभ होगा और इससे राहत मिलेगी. ज्योतिषों का कहना है कि नागपंचमी पर नागदेव की पूजा करते वक्त हल्दी का प्रयोग जरूर करना चाहिए. इस दिन अन्य देवी-देवताओं की तरह नागदेव की धूप, दीप से पूजा करनी चीहिए. साथ ही उन्हें दूध पिलाना चाहिए और मीठा भोग लगाना चाहिए.

पुराणों के अनुसार, कहा जाता है कि भगवान शिव ने नाग पंचमी की कहानी मां पार्वती को सुनाई थी. एक समय में एक किसान अपने खेत की खुदाई कर रहा था. जब उसने अपने फावड़े को एक पेड़ के पास मारा, तो उससे गलती से एक सांप के बच्चे की मौत हो गई. सांप की मां को गुस्सा आ गया था इसलिए उसने बदला लेने के लिए किसान सहित किसान के पूरे परिवार को मार डाला. यह करना सांप की मां के लिए काफी नहीं था उसने दूसरे गांव में रहने वाली किसान की विवाहित बेटी को मारने का फैसला लिया. बेटी के घर पहुंचने पर, उसने देखा कि युवती नाग पूजा कर रही थी. जिसे देख वो बहुत खुशी हुई और उन्होंने किसान को माफ कर दिया. जिससे बेटी की जान बच गई. इसके बाद उसने मृत किसान और उसके परिवार को फिर से जीवित कर दिया.

Nag Panchami Mantra: नाग पंचमी पर इन मंत्रों के जाप के साथ करें नाग देवता की पूजा, खुल जाएगा बंद किस्मत का ताला

Nag Panchami 2019: सावन के तीसरे सोमवार को मनाई जाएगी नाग पंचमी 2019, ऐसे दूर होगा काल सर्प दोष

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App