नई दिल्ली. हिंदू धर्म के महत्वपूर्ण पर्वों में शामिल कुंभ संक्रांति इस साल बुधवार, 13 फरवरी 2019 को मनाई जाएगी. पंचाग के अनुसार इस दिन से 11वें महीने की शुरुआत होती है. कुंभ संक्रांति को लेकर मान्यता है कि इस दिन हिंदू धर्म के सभी देवी-देवता नदी में स्नान करते हैं. प्रत्येक 12 साल में ही कुंभ संक्रांति के मौके पर ही कुंभ मेले का आयोजन किया जाता है. मकर संक्रांति के बाद कुंभ संक्रांति का बड़ा महत्व होता है. इस दिन ब्राह्मणों को भोजन और दान करना शुभ माना जाता है.

क्यों मनाई जाती है कुंभ संक्रांति

माना जाता है कि इस दिन सूर्य मकर राशि से कुंभ राशि पर प्रवेश करता है. इसका प्रभाव सभी राशियों पर पड़ता है. सूर्य के कुंभ राशि में प्रवेश करने के कई बार शुभ तो कई बार अशुभ लक्षण देखने को मिलते हैं. नवग्रहों के स्वामी कहे जाने वाले सूर्य की पूजा करना शुभ माना जाता है.

कुंभ संक्रांति का शुभ मुहूर्त

इस साल कुंभ संक्रांति बुधवार, 13 फरवरी 2019 को पड़ रही है.
पुण्यकाल मुहूर्त – सुबह 07:12 बजे से 09:03 बजे तक
अवधि – 1 घंटा 51 मिनट
संक्रांति का समय – सुबह 09:03 बजे
महापुण्य काल मुहूर्त – सुबह 08:39 बजे से 09:03 बजे तक
अवधि – 23 मिनट
दान का मुहूर्त – सुबह 07:05 बजे से सुबह 12:35 बजे तक

क्या करें

कुंभ संक्रांति के दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठें और स्नान करें. यदि संभव हो तो इस नदी में स्नान करें. आज के दिन सूर्य की उपासना करने का दिन होता है. सूर्य मंत्र का जाप करते हुए सूर्य देवता को अर्घ्‍य दें. कुंभ संक्रांति के दिन दान का अत्यंत महत्व होता है इसलिए खाने-पीने, कपड़े की चीजें दान करें.

Ganesh Ji Wednesday Tips: बुधवार को करें ये असरदार टोटके, चमक जाएगी किस्मत, बरसेगा पैसा

Shani Dosh Tips On Saturday: शनि दोष से छुड़ाना चाहते हैं पीछा तो शनिवार को अपनाएं ये अचूक उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App