नई दिल्ली : श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का पर्व हर साल धूम-धाम से मनाया जाता है. सब लोग बड़े उत्साह के साथ ये त्योहार मनाते हैं. इस दिन सभी लोग सुबह नहाधो कर पूजा कर के पूरा दिन व्रत करते हैं फिर 12 बजे श्रीकृष्ण का जन्म होने के बाद सभी लोग प्रसाद खाते हैं और अपना व्रत तोड़ते हैं. ऐसे में अगर आप कोई उपाय करते हैं. तो व्रत का फल कई गुना बढ़ जाता हैं. जिससे की आप की सारी मनोकामना पूरी होती हैं.

ज्योतिषाचार्य के अनुसार, इस बार की श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2018 की तिथी 2 सितम्बर की रात 08:47 पर लगेगी और 3 तारीख ती शाम 07:20 पर खत्म हो जाएगी. इस बार श्रीकृष्मा का पर्व 3 सिंबर की रात को मनाया जाएगा. और अष्टमी तिथी का सूर्योदय 3 सिंतबर को होगा. अगर आप ये सब उपाय करेंगे तो धन की वर्षा होगी और धन की कमी दूर हो जाएगी.

ऐसा भी कहा जाता हैं कि इस दिन मंदिरों में जाकर पंडितों को भोजन और दान करने से सारे कष्ट दूर होते हैं. और गरीबों या धार्मिक स्थान में जा कर दान करने से लाभ प्राप्त होता हैं. साथ ही धन की वर्षा होती हैं. श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर कृष्ण की बाल रुप की फोटो पर शंख से दूध चड़ाना चाहिए. फिर मां लक्ष्मी की पूजा करने के वक्त कुछ सिक्कों की भी पूजा करनी चाहिए. ताकि आपको आर्थिक सुधार हो.

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2018 पूजा का शुभ मुहूर्त, विधी और तिथी
इस बार अष्टमी 2 सितंबर रात 08:47 पर लगेगी और 3 सितंबर की शाम 07:20 पर खत्म हो जाएगी.
अष्‍टमी तिथि प्रारंभ: 2 सितंबर 2018 रात 08.47
अष्‍टमी तिथि समाप्‍त: 3 सितंबर 2018 शाम 07.20

अष्‍टमी रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ: 2 सितंबर 2018 रात 8 बजकर 48 मिनट.
अष्‍टमी रोहिणी नक्षत्र समाप्‍त: 3 सितंबर 2018 रात 8 बजकर 5 मिनट.
निशीथ काल पूजन समय: 2 सितंबर 2018 को रात 11 बजकर 57 मिनट से रात 12.48 मिनट तक.
श्रीकृष्ण जन्‍माष्‍टमी 2018 व्रत का पारण: 3 सितंबर की रात 8 बजकर 05 मिनट के बाद.

Krishna Janmashtami 2018: जन्माष्टमी व्रत से पहले इन बातों का रखें ध्यान, जानें क्या खाना है क्या नहीं

Raksha Bandhan 2018: जानिए क्यों मनाया जाता है रक्षा बंधन का त्योहार? राखी से जुड़ी है भगवान कृष्ण और युधिष्ठिर की कहानी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App