नई दिल्ली: Krishna Janmashtami 2018: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी के करीब आते ही पूरे देश में जन्माष्टमी की तैयारियां शुरू हो जाती है. जन्माष्टमी को हिन्दुओं के प्रमुख त्यौहार में से एक माना जाता है. इस बार कृष्ण जन्माष्टमी का त्यौहार 3 सितंबर को धूमधाम से मनाई जाएगी. ऐसा माना जाता है कि सृष्टि के पालनहार श्री विष्णु ने आठवां अवतार श्रीकृष्ण के रूप में इसी दिन लिया था. कृष्ण का जन्मदिन इसी दिन लोग मनाते है. पूरे दिन कृष्ण जन्माष्टमी पर पूरे दिन भजन- कीर्तन किया जाता है. 

कृष्ण जन्माष्टमी का शुभ मुहूर्त: 

अष्टमी तिथि- 2 सितंबर, 2018 को रात्रि 8: 47 बजे से अष्टमी तिथि शुरू

3 सितंबर, 2018 को सायंकाल 17:19 बजे तक समाप्त

रोहिणी नक्षत्र प्रारंभ- 2 सितंबर, 2018 को रात्रि 8:48 बजे से रोहिणी नक्षत्र शुरू

3 सितंबर, 2018 को रात्रि 8:04 बजे तक खत्म

जन्माष्टमी का ऐसे रखें व्रत

भक्त व्रत सुबह स्नान करने के बाद जन्माष्टमी के दिन व्रत का संकल्प लेते हुए अगले दिन रोहिणी नक्षत्र और अष्टमी तिथि केखत्म हो जाने पर पारण कर सकते है यानी कि अपना व्रत खोल खाना खा सकते हैं. आधी रात को कृष्ण की पूजा की जाती है.

Krishna Janmashtami 2018: श्रीकृष्ण जन्माष्टमी 2 को मनाएं या 3 सितंबर, अगर आपको भी है इस पर कंफ्यूजन तो यहां पढ़ें

Krishna Janmashtami 2018: भगवान कृष्ण के जन्म के बाद, करें ये 5 उपाय होगा लाभ

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App