Karwa Chauth 2020 date in India: करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी तिथि के दिन मनाया जाता है. यह दिन सुहागन महिलाओं के लिए अति विशेष माना जाता है. करवा चौथ के दिन सुहागन महिलाएं अपने पति की लंबी उम्र के लिए के लिए निर्जल व्रत रखकर चौथ माता (Chauth Mata) की पूजा करके चंद्रमा को अर्घ्य देती हैं.

भारत में तेजी से फैल रही कोरोना महामारी का असर तीज और त्योहारों पर भी पड़ता नजर आ रहा है. इस बार चाहे ईद हो या गणेश चतुर्थी हर त्योहार फीका फीका ही रहा है. इस आर्टिकल में हम आपको हिंदू धर्म की महिलाओं के सबसे महत्वपूर्ण त्योहार कहे जाने वाले करवा चौथ के बारे में बताने जा रहा है. इस आर्टिकल में हम आपको बताएंगे कि कोरोना काल के दौरान करवा चौथ मनाते समय किन बातों का ध्यान रखें.

सामूहिक आयोजन करने से बचें

बता दें कि भारत के कई हिस्सों में महिलाएं समाहिक तौर पर करवा चौथ की पूजा में शामिल होती हैं. दरअसल एक साथ कई महिलाएं अपना व्रत इस दिन खोलती हैं. अब जब पूरे देश में कोरोना महामारी का कहर जारी है तो व्रत के दौरान महिलाओं को सोशल डिस्टेसिंग का पालन करते हुए पूजा में शामिल होना होगा.

अकेले घर पर ही करे पूजा

करवा चौथ व्रत रखने वाली महिलाओं को सलाह है कि जहां तक संभव हो इस वर्ष अकले करवा चौथ की पूजा करें. किसी दूसरी महिला को अपनी पूजा में शामिल न करें. इस वर्ष पूजा एकांत और सिर्फ अपने परिवार के साथ मनाएं.

करवा चौथ व्रत का शुभ मुहूर्त और तिथि

करवा चौथ का त्योहार इस वर्ष 4 नवंबर 2020 को मनाया जाएगा.

करवा चौथ पूजा मुहूर्त शाम 5 बजकर 34 मिनट से शुरू होकर 6 बजकर 52 मिनट तक है.

करवा चौथ व्रत का समय सुबह 6 बजकर 35 मिनट से रात 8 बजकर 12 मिनट तक है.

करवा चौथ के दिन चंद्रोदय रात 8 बजकर 12 मिनट पर होगा.

चुतर्थी तिथि का प्रारंभ 4 नवंबर 2020 को सुबह 3 बजकर 24 मिनट से होगा. वहीं समाप्ति अगले दिन सुबह 5 बजकर 14 मिनट तक है.

Guruwar ke Totke: गुरुवार के टोटके चमका देंगे किस्मत, बरसेगी विष्णु जी की कृपा

Guruwar ke Totke: गुरुवार के टोटके चमका देंगे किस्मत, बरसेगी विष्णु जी की कृपा

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर