नई दिल्ली. आज यानी 17 अक्टूबर को करवा चौथ का व्रत है. महिलाओं ने यह व्रत सुबह सरगी खाकर शुरू कर दिया है और अब पूरे दिन निर्जला व्रत रहकर महिलाएं शाम को करवा माता की पूजा, कथा सुनने और छलनी से चांद के दर्शन के बाद ही अपने पति के हाथों से पानी पीकर व्रत खोलेंगी. करवा चौथ का व्रत करवा माता की कथा के बिना अधूरा माना जाता है. सुहागिन महिलाओं के लिए करवा चौथ का व्रत काफी महत्व रखता है. सुहागिन महिलाएं ये व्रत अपने पति की लंबी उम्र के लिए रखती हैं.

करवा चौथ व्रत कथा

प्राचीन काल में इंद्रप्रस्थ नाम के एक न गर में वेद शर्मा नाम का एक ब्राह्मण रहा करता था. उसकी पत्नी का नाम लीलावती था. उसके सात पुत्र और वीरावती नाम की एक पुत्री थी. पुत्री के बड़े होने पर उसका विवाह कर दिया गया. इसके बाद कार्तिक कृष्ण चतुर्थी आने पर वीरावती ने अपनी भाभियों संग करवा चौथ का व्रत रखा, लेकिन भूख-प्यास की वजह से वह चंद्रोदय से पहले ही बेहोश हो गई. बहन को इस हालत में देखकर सातों भाई परेशान हो गए. इसलिए सभी भाइयों ने बहन के लिए पेड़ के पीछे से जलती मशाल का उजाला दिखाकर बहन को होश में लाकर चंद्रोदय की सूचना दी ताकि वो अपना व्रत खोल ले.

वीरावती ने भाइयों की बाच मान कर विधिपूर्वक चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद भोजन कर लिया. लेकिन ऐसा करने के कुछ समय बाद ही उसके पति की मृत्यु हो गई. अपने पति की मृत्यु के बाद वीरावती ने अन्न जल का त्याग कर दिया. उस रात इंद्राणी धरती पर आई. ब्राह्मण पुत्री वीरावती ने उनसे अपने दुख का कारण पूछा. इंद्राणी ने बताया कि तुमने करवा चौथ का व्रत अपने पिता के घर पर किया और वास्तविक चंद्रोदय से पहले ही अर्घ्य देकर तुमने व्रत तड़ लिया. इसलिए तुम्हारे पति की मृत्यु हो गई.

वीरावती ने अपने पति को पुनजीवित करने के लिए इंद्राणी से समाधान मांगा. इंद्राणी ने वीरावती को पुन: विधि विधान से करवा चौथ व्रत करने की सलाह दी. वीरावती ने बारह मास की चौथ सहित करवा चौथ व्रत को विधि विधान से पूरा किया. इससे प्रसन्न होकर इंद्राणी ने वीरावती के पति को जीवनदान दे दिया.

Also Read, ये भी पढ़ें– Karwa Chauth 2019: पति से रहती है अनबन तो करवा चौथ पर जरूर करें ये असरदार उपाय, दूर होंगे सभी संकट

करवा चौथ शुभ मुहूर्त

  • करवा चौथ पूजा मुहूर्त 05 बजकर 46 मिनट से शाम 07 बजकर 02 मिनट तक
  • कुल अवधि- एक घंटा 8 मिनट
  • चतुर्थी तिथि प्रारंभ:- 17 अक्टूबर को सुबह 06.48 बजे
  • चतुर्थी तिथि समाप्त: 18 अक्टूबर सुबह 07.29 बजे तक
  • चंद्रोदय समय- शाम 8.15.59 बजे

Karwa Chauth 2019 Moon Rise Time: करवा चौथ व्रत आज, यहां जानें चंद्रोदय समय, पूजा सामग्री, पूजा विधि, शुभ मुहूर्त समेत सभी जानकारी

Karwa Chauth Vrat 2019: जानिए पीरियड्स के दौरान महिलाएं कैसे रखें करवा चौथ का व्रत और कैसे कर सकती हैं पूजा पाठ

How to Make Money: पैसे की तंगी से जूझ रहे हैं तो एक बार ये टोटके जरूर आजमा लें, किस्मत चमक जाएगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App