नई दिल्ली. करवा चौथ एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है जो विवाहित महिलाओं द्वारा अपने पति के जीवन की सुरक्षा और दीर्घायु के लिए मनाया जाता है. यह एक दिन का त्योहार है जो पूर्णिमा के चार दिन बाद, कार्तिक महीने में (हिंदू चंद्र कैलेंडर के अनुसार) मनाया जाता है. इस वर्ष यह 17 अक्टूबर को मनाया जाएगा.

करवा चौथ के दिन विवाहित महिलाएं निर्जला व्रत रखती हैं. निर्जला व्रत का पालन करना मूल रूप से पूरे दिन के लिए भोजन और पानी के बिना रहना होता है, जब तक कि आकाश में चंद्रमा नहीं उगता है. इसके बाद, देवी पार्वती और भगवान शिव की प्रार्थना की जाती है.

करवा चौथ के व्रत का पालन करने के लिए, विवाहित महिलाएं सरगी खाने के लिए सूर्योदय के समय उठती हैं. सरगी सास द्वारा अपनी बहुओं को दी जाती है. सरगी खाने के बाद वे दिन भर कुछ नहीं खाते हैं. रात में जब चंद्रमा आकाश में उगता है, पति अपनी पत्नियों को पानी और भोजन देते हैं, ताकि वे अपना दिन भर का उपवास तोड़ सकें. महिलाएं सुंदर पोशाक पहनकर और हाथों पर मेहंदी लगाती और खुद को सजाती हैं.

कहा जाता है कि जिन लड़कियों की शादी नहीं हो रही है उन्हें विवाहित महिला की बची हुई मेहंदी लगानी चाहिए. ऐसा माना जाता है उनकी शादी इससे जल्द हो जाती है. ऐसा कहा जाता है कि इस दिन आपको कई तरह के व्यंजन बनाने चाहिए, जैसे कि करी-चावल, मूंग हलवा आदि.

इस व्रत में कई मान्यताएं हैं जो मानी जाती हैं और यह व्रत पति की लंबी उम्र के लिए किया जाता है, इस कारण से इस व्रत की पूजा में कोई कमी नहीं होनी चाहिए. ऐसे में आज हम बताने जा रहे हैं, इस व्रत की पूजा सामग्रियों की लिस्ट, जिनका उपयोग इस व्रत और पूजा में किया जाता है. इसमें कुल 36 ऐसी चीजें हैं, जो इस व्रत की शुरुआत से लेकर व्रत के खुलने तक उपयोग में हैं, तो आइए जानते हैं इनके बारे में.

करवा चौथ के लिए पूजा सामग्री –

1. चंदन

2. शहद

3. इंक स्टिक

4. फूल

5. कच्चा दूध

6. चीनी

7. शुद्ध घी

8. दही

9. मिठाई

10. गंगा जल

11. कुमकुम

12. अक्षत (चावल)

13. सिंदूर

14. मेहंदी

15. महावर

16. कंघी

17. बिंदी

18. चुनरी

19. चूड़ी

20. नेटटल

21. मिट्टी की टोंटी और ढक्कन

22. दीपक

23. कपास

24. कपूर

25. गेहूं

26. चीनी

27. हल्दी

28. कलश

29. पीली मिट्टी

30. लकड़ी का आसन

31. छलनी

32. आठ पुरियों की अठावरी

33. हलवा

34. दक्षिणा के लिए धन

35. पुस्तक

36. पानी

Sharad Purnima 2019: आज है शरद पूर्णिमा, जानिए चांदनी रात में खीर की तासीर से लेकर व्रत का महत्व

Ravivar ke Totke: किस्मत खोल देंगे रविवार के चमत्कारी टोटके, घर की तिजौरी पर होगा भगवान कुबेर का वास

Valmiki Jayanti 2019: डाकू से बने महर्षि वाल्मीकि, संस्कृत भाषा में की महाकाव्य रामायण की रचना

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App