नई दिल्ली. 17 अक्टूबर यानी आज करवा चौथ का पर्व मनाया जा रहा है, लेकिन आज का ये करवा चौथ काफी खास है क्योंकि इस बार ये करवा चौथ 70 साल बाद रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा में रोहिणी का योग पड़ रहा है, जिसके कारण मार्कण्डेय और सत्यभामा योग बन हुआ है. इस कारण करवा चौथ पूजा पर विशेष पूजा माना जा रहा है. आखिर इस पूजा का क्या लाभ होने वाला है, चलिए जानते हैं.

चंद्रदेव अपनी सबसे प्रिय पत्नी रोहिणी के साथ होंगे

ज्योतिष के अनुसार करवा चौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है. इस वर्ष चतुर्थी 17 अक्टूबर यानी की गुरुवार को पड़ रही है. करवा चौथ पर इस बार 70 साल बाद बेहद शुभ संयोग बन रहा है. रोहिणी नक्षत्र के साथ वृष उच्च राशि में चंद्रना का योग होने के कारण करवा चौथ को अधिक मंगलकारी बना रहा है.

यह योग भगवान कृष्ण और सत्यभामा के मिलन पर था

करवा चौथ पर रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा में रोहिणी का योग होने से मार्कण्डेय और सत्यभामा योग बन रहा है. यह योग चंद्रमा की 27 पत्नियों में सबसे प्रिय पत्नी रोहिणी के साथ होने से बना रहा है. ऐसा योग भगवान श्रिकृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय भी बना था.

Sharad Purnima 2019: शरद पूर्णिमा की रात इन मंत्रों के जाप से बरसता है छप्पर फाड़कर पैसा

Valmiki Jayanti 2019: डाकू से बने महर्षि वाल्मीकि, संस्कृत भाषा में की महाकाव्य रामायण की रचना

Diwali 2019 Laxmi Puja: दीपावली में मां लक्ष्मी की पूजा क्यों होती है और क्यों दीपावली को रोशनी का पर्व कहा जाता है, जानें कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App