नई दिल्ली. Kartik Month 2019: शरद पूर्णिमा के अगले दिन 14 अक्टूबर से कार्तिक मास प्रारंभ हो रहा है. कार्तिक महीने का हिंदू धर्म में खासा महत्व है. इस महीने में कई हिंदू व्रत और त्योहार आते हैं. कार्तिक महीने की शुरुआत से लेकर पूर्णिमा तक लोग कई तरह की पूजा अर्चना करते हैं. कार्तिक मास में करवा चौथ, धनतेरस, नरक चतुर्दशी, दिवाली, भाईदूज, कार्तिक पूर्णिमा जैसे प्रमुख व्रत त्योहार पड़ रहे हैं. कार्तिक महीना 14 अक्टूबर से शुरू होगा और 12 नवंबर 2019 तक चलेगा. आइए जानते हैं कि हिंदू धर्म में कार्तिक मास का क्या महत्व है.

हिंदू कैलेंडर के मुताबिक कार्तिक मास को सबसे पवित्र महीना माना जाता है. इस महीने में दान पुण्य करने से घर-परिवार और कारोबार में सुख शांति आती है. कार्तिक मास में तुलसी विवाह का भी बड़ा महत्व है. इस महीने में तुलसी की श्रद्धा भाव से पूजा करने पर मनवांछित फल मिलते हैं.

भगवान कृष्ण का प्रिय है कार्तिक मास-
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार कार्तिक मास भगवान श्रीकृष्ण का सबसे प्रिय महीना है. राधा इस महीने में कृष्ण से रूठ गई थीं और उन्होंने कृष्ण को रस्सी से बांधकर अपना गुस्सा उतारा था. मगर कृष्ण ने कुछ नहीं किया वे बस मुस्कुराते रहे. जब राधा का गुस्सा शांत हुआ तो उन्होंने कृष्ण से माफी मांगी. मगर कृष्ण ने राधा से कहा कि वे हमेशा उनसे बंधे ही रहना चाहते हैं. इसलिए उन्हें कार्तिक महीना काफी पसंद था.

17 अक्टूबर को करवा चौथ-
कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को करवा चौथ का व्रत मनाया जाता है. इस दिन विवाहित महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना के लिए उपवास रखती हैं. इस साल 17 अक्टूबर को करवा चौथ का व्रत रखा जाएगा.

कार्तिक महीने में धनतेरस, दीपावली और भाईदूज-
कार्तिक महीने में ही हिंदू धर्म का सबसे बड़ा त्योहार दीपावली मनाया जाता है. कार्तिक महीने की कृष्ण त्रयोदशी को धनतेरस है. 25 अक्टूबर को धनतेरस, उसके अगले दिन नरक चतुर्दशी यानी छोटी दिवाली और 27 अक्टूबर को दीपावली का त्योहार मनाया जा रहा है.

इस साल कार्तिक अमावस्या 27 अक्टूबर से शुरू होकर 28 अक्टूबर यानी दो दिन चलेगी. जैन धर्म के 24वें तीर्थंकर भगवान महावीर स्वामी का निर्वाण दिवस 28 को मनाया जाएगा. 29 अक्टूबर को भाईदूज का त्योहार मनाया जाएगा. इस दिन बहनें अपने भाईयों की पूजा करती हैं.

8 नवंबर को तुलसी विवाह-
कार्तिक महीने की शुक्ल एकादशी को तुलसी विवाह की परंपरा है. इस साल 8 नवंबर को तुलसी विवाह किया जाएगा. इसके बाद 12 नवंबर को कार्तिक महीने का आखिरी दिन है. इस दिन कार्तिक अमावस्या मनाई जाती है. कार्तिक अमावस्या के दिन व्रत और ईष्टदेव की आराधना करने से मनवांछित फल की प्राप्ति होती है.

Also Read ये भी पढ़ें-

करवा चौथ 2019 में पांच बातों का जरूर रखें खयाल, नहीं तो अधूरी रह जाएगी आपकी पूजा

 दिवाली से पहले घर से हटा लें ये चीजें, तभी मां लक्ष्मी करेंगी घर में प्रवेश

दीपावली में मां लक्ष्मी की पूजा क्यों होती है और क्यों दीपावली को रोशनी का पर्व कहा जाता है, जानें कहानी

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर