नई दिल्ली. भगवान शिव के क्रोध का विग्रह रूप माने जाने वाले कालभैरव का प्राकट्य पर्व मार्गशीर्ष माह कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनाया जात है. कालाअष्टमी के दिन भगवान शिव के अंश भैरव की उत्पत्ति हुई थी. कालभैरव को भगवान शिव का पांचवा अवतार माना गया है. मान्यता है कि भगवान शिव के दो रूप हैं. पहला है विश्वेश्वर स्वरुप अत्यन्त सौम्य और शांत है. वहीं बात करे भगवान शिव के भैरव रुप के तो, इस समवरुप में भगवान शिव का रुप काफी भयानक, विकराल और प्रचंड होता है.

19 नवंबर 2019 दिन मंगलवार को यानि आज अष्टमी का शुभ मुहूर्त 1 बजकर 50 मिनट से लग रही है. यह मुहूर्त 20 नंवबर यानि बुधवार को दिन में 11 .41 मिनट तक रहेगा. मान्यता के अनुसार भैरव जी का जन्म मध्याह्न में हुआ था. इस दिन भगवान शिव के भक्तों को मध्याह्न व्यापिनी लेनी चाहिए. इसलिए इस साल 19 नवंबर मंगलावार को अष्टमी मध्याह्न में मनाई जाएगी.

भैरवाष्टमी के दिन प्रात: काल में उठकर और स्नान से निवृत होकर कालभैरव व्रत का संकल्प लेना चाहिए. इसके साथ ही भैरव जी के मंदिर में जाकर उनके वाहन सहित उनकी पूजा-अर्चना करनी चाहिए. भैरव जी का वाहन कुत्ता है. इसलिए इस दिन कुत्तों को मिठाई खिलाना चाहिए. कालभैरव अष्टमी के दिन उपवास करके भगवान भैरव की पूजा करने से मनुष्य के सभी पापों से मुक्ती मिलती है.

Also Read- Aaj Ka Rashifal In Hindi 19 November 2019: आज का राशिफल 19 नवंबर 2019, कर्क राशि वालों को हो सकता है बंपर लाभ

Story of Kalashtami Vrat : कालाष्टमी के दिन करें कालभैरव की पूजा, इनकी उपासना से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है

कालभैरव अष्टमी के दिन ऊं भैरवाय नम: मंत्र का उच्चारण करते हुए पूजा करनी चाहिए. इस दिन काशी में काल भैरव जी के पूजा का बड़ा महत्व है. काशी नगर में भैरव जी के कई मंदिर है – काल भैरव, बटुक भैरव मंदिर और आनन्द भैरव मंदिर है . काल भैरव भगवान को काशी का नगर रक्षक भी लोग कहते हैं

Also Read-Vivah Panchami 2019 Date : इस साल 1 दिसंबर को मनाई जाएगी विवाह पंचमी, जानिए क्यों मनाया जाता है विवाह पंचमी

Marriage Muhurat 2020 Date List: फरवरी में होंगी सबसे ज्यादा शादियां, जानें नए साल के विवाह मुहूर्त 2020 की पूरी लिस्ट

Horoscope Today Thursday 14 November 2019 in Hindi: वृश्चिक राशि के लोग पैसों के लेनदेन में रहें सावधान

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App