नई दिल्ली. ज्येष्ठ मास के शुल्क पक्ष में आने वाली पूर्णिमा को ज्येष्ठ पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है. ज्येष्ठ पूर्णिमा का हिंदू धर्म में खास महत्व माना जाता है. इस बार ज्येष्ठ पूर्णिमा 16 जून यानी रविवार को मनाई जाएगी. इस खास दिन पर हिंदू धर्म वट वृक्ष की पूजा-अर्चना करते हैं. साथ ही इंद्र देवता से बारिश की कमाना करते हैं. दरअसल वट वृक्ष की पूजा करने से ज्येष्ठ पूर्णिमा को वट पूर्णिमा के नाम से भी जाना पाता है. वहीं सावन मास से ठीक एक महीने पहले गर्मी के प्रचंड रूप को कम करने के लिए लोग इस दिन इंद्र देवता से वर्षा करने के लिए प्रर्थाना करते है. ताकि सूखे नदीं, तालाबों और झीलों में पानी भरा रहा है. पुराणिक कथाओं के ऐसी मान्यता है कि इस दिन इंद्र की आराधन करने से वे प्रसन्न होकर बारिश करते हैं. इस बीच हम आपको बताएंगे ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन कैसे पूजा करें, शुभ मुहूर्त क्या है, और हिंदू धर्म में वट पूर्णिमा का इतना मह्त्व क्यों है.

गौरतलब है कि ज्येष्ठ पूर्णिमा का दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु के लिए व्रत रखती है. तो वहीं मान्यता ये भी है कि वट पूर्णिमा के दिन जल का दान करना चाहिए, साथ ही जल की मह्त्वता को भी समझना चाहिए.

ज्येष्ठ पूर्णिमा 2019 शुभ मुहूर्त-

पूर्णिमा तिथि, 16 जून रविवार दोपहर 2 बजे के बाद से रात 8:25 बजे तक
वट वृक्ष पूजा मुहूर्त, महिलाएं 17 जून को भी दोपहर के समय तक उपवास रख, वट वृक्ष की पूजा करें.

जानें ज्येष्ठ पूर्णिमा 2019 पूजा विधि-

  • ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन सुहागिन महिलाएं अपने पति की लंबी आयु की कामना के लिए व्रत रखती हैं.
  • ज्येष्ठ पूर्णिमा पर नित क्रिया स्नान के बाद वट वृक्ष की पूजा के लिए घर से निकले.
  • फूल माला, अगरबत्ती, दीपक, सिंदूर, चालव आदि पूजा की साम्रगी को थाली में सजाकर लाल कपड़े की सहायता से ढक कर ले जाएं.
  • वट वृक्ष के नीचे बैठकर विधि विधान से देवी मां की पूजा करें.
  • पूजा करने के साथ सुहागिन महिलाएं वट वृक्ष की प्रक्रिमा करें.
  • ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन सभी को प्रसाद के रूप में मिठाई, फल आदि को वितरित करें.

Jyeshtha Purnima 2019: जानिए कब है ज्येष्ठ पूर्णिमा, महत्व, तिथि, पूजा, शुभ मुहूर्त

Jyeshtha Purnima 2018: अधिकमास की पूर्णिमा पर घर लगाएं ये पौधा, कभी नहीं होगी धन की कमी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App