Holika Dahan 2020 Bhog: होलिका दहन 9 मार्च को किया जाएगा और 10 मार्च को होली का त्योहार मनाया जाएगा. होलिका दहन पर इष्ट देव की विधि अनुसार भोग लगा पूजा करने से आपके सभी बिगड़ते काम बनने लगते है और ईष्ट देव का आर्शीवाद आप पर बना रहता हैं. इसीलिए होलिका दहन के साथ इष्ट देव की पूजा का ध्यान रखें क्योंकि ईष्ट देव ही जो आपको समृद्धि प्रदान करते हैं. इसलिए आज हम आपको बताएंगे कि ईष्ट देवों को कौनसा भोग लगाकर प्रसन्न किया जाए.

मां दूर्गा का भोग 
होलिका के दहन के दिन इष्ट देवी मां दूर्गा की पूजा की विशेष मान्यता हैं. होलिका के दिन मां दूर्गा पर हलवे का भोग लगाए ऐसा करने से मां प्रसन्न होकर आपके परिवार पर सुख-समृद्धी बरसाएगीं. वहीं दूसरी ओर मां दुर्गा पर लाल चूनरी अर्पित करना ना भूलें. मां दुर्गा इष्ट देवियों में प्रमुख मानी जाती हैं.

भगवान शिव का भोग
होलिका दहन के पश्चात भोले पर राख चढ़ाने से वे अपने भक्त से खुश होकर उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण कर देते हैं. वैसे तो शिव को लेकर लोगों की मान्यता है कि वे भोले है जल्दी से प्रसन्न हो जाते हैं. लेकिन यदि आपने अपने इष्ट देव भोलेनाथ को प्रसन्न करने में चूक कर दी तो कई विघ्न भी पैदा हों सकते हैं. इसीलिए होलिका दहन के बाद राख और भांग चढ़ाना ना भूलें.

भगवान गणेश का भोग
किसी भी शुभ कार्य को करने से पहले गणेश जी की पूजा की जाती है ताकि आपके कार्यों और आप पर गणेश जी की कृपा बनी रहें. यदि आप गणेश जी को इष्ट देव के रुप में मानते है तो होलिका के दिन उनको शुद्ध ठंडाई का भोग लगाए. ठंडाई का भोग इसलिए लगाया जाता हैं ताकि गणेश जी प्रसन्न हो सकें. इसके अलावा आप बेसन, मोतीचूर, नारियल आदि लड्डू का भोग लगा सकतें हैं क्योंकि गणेश जी का पसंदीदा भोजन लड्डू हैं.

भगवान विष्णु का भोग 
वैसे तो विष्णु भगवान में सभी देवता समाएं है लेकिन होलिका दहन के दिन इष्ट देव विष्णु जी को पताशे और पीले या लाल रंग कि मिठाई अर्पित करने से आपके सभी बिगड़ते काम बनने लगते हैं. वहीं दूसरी ओर माल पुए का भोग लगाने से आपकी समस्या धीरे-धीरे खत्म होने लगती है. इसलिए ईष्ट देव विष्णु भगवान की पूजा अवश्य करें.

माता लक्ष्मी और माता सरस्वती का भोग 
यदि आप माता लक्ष्मी और माता सरस्वती को ईष्ट देवी के रुप में पूजते हैं तो केसर का भात का भोग लगाना उचित होगा. ऐसा करने से माता लक्ष्मी और सरस्वती की आप पर धन और ज्ञान की वर्षा होगी. इसीलिए ध्यान रहें भोग लगाते समय केसर का भात और खीर शामिल हों जो कि भोग का अहम हिस्सा हैं.

हनुमान जी का भोग
होलिका के दिन हनुमान जी की चोला चढ़ाकर पूजा करने से वे आप पर कृपा बरसातें हैं. इसलिए हनुमान जी के सिंदूर लगाकर पंचमेवा, बूंदी का भोग चढ़ाए ताकि बजरंग बली आपके सभी रुके काम वापस चालू करा दें और काम में आने वाले विघ्नों को दूर कर दें. वैसे इस बार 9 मार्च 2020 को मंगलवार और होलिका दहन का दिन भी है तो हनुमान जी की विधी विधान पूजा करना ना भूलें.

Holi 2020: होली पर रंगों से बदल जाएगी किस्मत, कुंडली के पीड़ित ग्रह होंगे मजबूत, होगा बंपर धन लाभ

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर