नई दिल्ली/ इस बार होली पर 499 साल बाद चंद्रमा, कन्या राशि में तो गुरु और शनि ग्रह अपनी ही राशियों में रहेंगे। इस दिन ध्रुव योग का भी निर्माण हो रहा है। वहीं दूसरा योग भी दुर्लभ योग है जो दशकों बाद पड़ रहा है, इसके अनुसार इस बार होली पर सूर्य, ब्रह्मा और अर्यमा की साक्षी भी रहेगी। इसके पहले 03 मार्च 1521 में इस प्रकार का  योग बना था। यानि 499 साल बाद इस बार एक विशेष दुलर्भ योग में मनेगी होली।

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, हर वर्ष फाल्गुन मास की पूर्णिमा तिथि को होली का त्योहार मनाया जाता है। इससे एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है। वहीं जिस दिन रंग खेला जाता है, उसे कहीं कहीं धुलेंडी भी कहा जाता है। ऐसे में इस बार हिंदू पंचांग के अनुसार इस बार होली 29 मार्च 2021 को फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को पड़ रही है।

इस साल यानि 2021 की होली सर्वार्थसिद्धि योग में मनेगी, इसके साथ ही साथ इस दिन अमृतसिद्धि योग भी रहेगा। होली से 8 दिन पहले हिंदू धर्म के अनुसार होलाष्टक लग जाता है। इस दौरान किसी भी शुभ कार्य को वर्जित माना गया है। इसी कारण इस समय शादी, गृह प्रवेश समेत अन्य मांगलिक कार्य इस दौरान नहीं किए जाते हैं।

Mouni Roy Viral Dance Video: मौनी रॉय ने अपनी छह डांस वीडियो से सोशल मीडिया पर मचाया तहलका, फैंस हुए दीवाने

Holi 2021: जानिए होलिका दहन के बाद कैसे और क्यों मनाई जाती है धुलेंडी?

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर