नई दिल्ली. हरतालिका तीज भाद्रपद शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाई जाती है। हरतालिका तीज को गौरी तृतीया व्रत के नाम से भी जाना जाता है। इस बार यह व्रत 9 सितंबर, गुरुवार को यानी आज है। हरतालिका तीज व्रत अविवाहित लड़कियों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है जो एक अच्छा पति पाने के लिए व्रत रखती हैं। वहीं विवाहित महिलाएं अपने पति के सौभाग्य की वृद्धि के लिए व्रत रखती हैं। ऐसा माना जाता है कि यह व्रत सबसे पहले माता पार्वती ने भगवान शिव को पति के रूप में पाने के लिए किया था।

हरतालिका तीज का व्रत निर्जला रखा जाता है यानी महिलाएं दिन भर पानी भी नहीं पीती हैं। शाम को पूजा करने के बाद महिलाएं व्रत तोड़ती हैं और अगले दिन भोजन और जल ग्रहण करती हैं। इस दिन शिव पार्वती जी की पूजा की जाती है। जानिए हरतालिका तीज का शुभ मुहूर्त, पूजन विधि और व्रत कथा।

हरतालिका तीज 2021: शुभ मुहूर्त (शुभ समय)
पूजा मुहूर्त – सुबह 6.03 से 8.33 बजे तक

प्रदोष काल हरतालिका व्रत पूजा मुहूर्त- शाम 6.33 बजे से रात 8.51 बजे तक

तृतीया तिथि शुरू: 9 सितंबर की देर रात 2:33 बजे
तृतीया तिथि समाप्त: 10 सितंबर दोपहर 12.18 बजे तक

हरतालिका तीज 2021: पूजा विधि

इस हिंदू त्योहार के दौरान सुबह हरतालिका तीज की पूजा करना शुभ माना जाता है। यदि ऐसा संभव न हो तो सूर्यास्त के बाद प्रदोष काल में पूजा की जा सकती है। इस दिन भगवान गणेश, भगवान शिव, देवी पार्वती की मूर्तियों की पूजा की जाती है।

सबसे पहले पूजा स्थल को साफ करें और वहां एक चौक रखें। इसके ऊपर केले के पत्ते बिछाएं और भगवान शिव, माता पार्वती और गणेश जी की मूर्तियां स्थापित करें। इसके बाद तीनों की षोडशोपचार विधि से पूजा करें। इसके बाद मां पार्वती को धोती और अंगोछा भगवान शिव और विवाहित महिला से जुड़ी हर चीज का भोग लगाएं। इन सभी चीजों को बाद में किसी ब्राह्मण को दान कर दें।

प्रत्येक प्रहर में तीनों मूर्तियों को बिल्व पत्र, आम के पत्ते, चंपक के पत्ते और केवड़ा चढ़ाएं और आरती करनी चाहिए। एक साथ इन मंत्रों का जाप करना चाहिए-

जब आप देवी पार्वती की पूजा कर रहे हों-
उमयै नमः,ओम पार्वितै नमः,ओम जगद्धात्रयै नमः, ओम जगतप्रतिष्ठायै नमः, ओम शांतिरूपिनयै नमः,ओम शिवायै नमः.

इन मंत्रों से करनी चाहिए भगवान शिव की पूजा
हरै नमः,ओम महेश्वराय नमः, ओम शंभवे नमः,ओम शूलपनाय नमः,ओम पिनाकव्रुशे नमः, ओम शिवाय नमः, ओम पशुपतये नमः,
ओम  महादेवाय नमः

ऊँ हरय नम:, ऊँ महेश्वराय नम:, ऊँ शम्भवे नम:, ऊँ शूलपाणये नम:, ऊँ पाकपोषे नम:, ऊँ शिवाय नम:, ऊँ पशुपतये नम:, ऊँ महादेवाय नम:

अगली सुबह, देवी पार्वती को सिंदूर चढ़ाएं और हलवा चढ़ाकर उपवास तोड़ें।

हरतालिका तीज 2021: व्रत कथा
धार्मिक ग्रंथों के अनुसार यह तीज की कथा भगवान शंकर ने मां पार्वती को उनके पिछले जन्म की याद दिलाने के लिए सुनाई थी। भगवान शिव ने पार्वती को बताया कि वह अपने पिछले जन्म में राजा दक्ष की बेटी सती थीं। वह सती के अवतार में भगवान शंकर की प्रिय पत्नी भी थीं।

एक बार सती के पिता दक्ष ने एक महान यज्ञ का आयोजन किया, लेकिन द्वेष से भगवान शंकर को आमंत्रित नहीं किया। जब सती को इस बात का पता चला तो उन्होंने भगवान शंकर से यज्ञ में जाने को कहा, लेकिन भगवान शंकर ने बिना बुलाए जाने से मना कर दिया।

तब सती स्वयं यज्ञ में शामिल होने गईं और अपने पिता दक्ष से पूछा कि क्यों न मेरे पति को आमंत्रित किया जाए? इस पर दक्ष ने भगवान शंकर का अपमान किया। सती अपने पति शिव का अपमान नहीं सह सकीं और यज्ञ की अग्नि में अपना शरीर त्याग दिया।

अगले जन्म में उनका जन्म हिमाचल के राजा के यहां हुआ था और पिछले जन्म की स्मृति के कारण उन्होंने इस जन्म में भी तपस्या की थी, ताकि भगवान शंकर को पति के रूप में प्राप्त किया जा सके। देवी पार्वती ने अपने मन में भगवान शिव को पति के रूप में स्वीकार कर लिया था और हमेशा भगवान शिव की तपस्या में लीन थीं। अपनी बेटी की यह हालत देखकर हिमाचल के राजा को चिंता होने लगी। जब उन्होंने नारदजी के साथ इस पर चर्चा की, तो उनके कहने पर उन्होंने अपनी बेटी का विवाह भगवान विष्णु से करने का फैसला किया। पार्वतीजी भगवान विष्णु से विवाह नहीं करना चाहती थीं। पार्वती के मन की बात जानकर उसके दोस्त उसे घने जंगल में ले गए। इस प्रकार उसके मित्रों द्वारा उसका अपहरण कर लेने के कारण इस व्रत का नाम हरतालिका व्रत रखा गया।

पार्वती तब तक शिव की तपस्या करती रहीं जब तक कि उन्होंने भगवान शिव को अपने पति के रूप में प्राप्त नहीं कर लिया। तभी से पार्वती जी की सच्ची भक्ति के साथ यह व्रत

इन मंत्रों से करनी चाहिए भगवान शिव की पूजा
हरै नमः, ओम महेश्वराय नमः, ओम शंभवे नमः, ओम शूलपनाय नमः, ओम  पिनाकव्रुशे नमः, ओम शिवाय नमः, ओम पशुपतये नमः,
ओम महादेवाय नमः

ऊँ हरय नम:, ऊँ महेश्वराय नम:, ऊँ शम्भवे नम:, ऊँ शूलपाणये नम:, ऊँ पाकपोषे नम:, ऊँ शिवाय नम:, ऊँ पशुपतये नम:, ऊँ महादेवाय नम:

अगली सुबह, देवी पार्वती को सिंदूर चढ़ाएं और हलवा चढ़ाकर उपवास तोड़ें।

हरतालिका तीज 2021: व्रत कथा
धार्मिक ग्रंथों के अनुसार यह तीज की कथा भगवान शंकर ने मां पार्वती को उनके पिछले जन्म की याद दिलाने के लिए सुनाई थी। भगवान शिव ने पार्वती को बताया कि वह अपने पिछले जन्म में राजा दक्ष की बेटी सती थीं। वह सती के अवतार में भगवान शंकर की प्रिय पत्नी भी थीं।

एक बार सती के पिता दक्ष ने एक महान यज्ञ का आयोजन किया, लेकिन द्वेष से भगवान शंकर को आमंत्रित नहीं किया। जब सती को इस बात का पता चला तो उन्होंने भगवान शंकर से यज्ञ में जाने को कहा, लेकिन भगवान शंकर ने बिना बुलाए जाने से मना कर दिया।

तब सती स्वयं यज्ञ में शामिल होने गईं और अपने पिता दक्ष से पूछा कि क्यों न मेरे पति को आमंत्रित किया जाए? इस पर दक्ष ने भगवान शंकर का अपमान किया। सती अपने पति शिव का अपमान नहीं सह सकीं और यज्ञ की अग्नि में अपना शरीर त्याग दिया।

अगले जन्म में उनका जन्म हिमाचल के राजा के यहां हुआ था और पिछले जन्म की स्मृति के कारण उन्होंने इस जन्म में भी तपस्या की थी, ताकि भगवान शंकर को पति के रूप में प्राप्त किया जा सके। देवी पार्वती ने अपने मन में भगवान शिव को पति के रूप में स्वीकार कर लिया था और हमेशा भगवान शिव की तपस्या में लीन थीं। अपनी बेटी की यह हालत देखकर हिमाचल के राजा को चिंता होने लगी। जब उन्होंने नारदजी के साथ इस पर चर्चा की, तो उनके कहने पर उन्होंने अपनी बेटी का विवाह भगवान विष्णु से करने का फैसला किया। पार्वतीजी भगवान विष्णु से विवाह नहीं करना चाहती थीं। पार्वती के मन की बात जानकर उसके दोस्त उसे घने जंगल में ले गए। इस प्रकार उसके मित्रों द्वारा उसका अपहरण कर लेने के कारण इस व्रत का नाम हरतालिका व्रत रखा गया। पार्वती तब तक शिव की तपस्या करती रहीं जब तक कि उन्होंने भगवान शिव को अपने पति के रूप में प्राप्त नहीं कर लिया।

Rajan Rao on Farmers Protest: कृषि कानूनों के खिलाफ लाखों किसान सड़कों पर, लेकिन बीजेपी सरकार उदासीन- राजन राव

MSP Relief to Farmers : किसानों के बढ़ते आंदोलन के बीच मोदी सरकार ने बढ़ाई MSP

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर