नई दिल्ली. Hartalika Teej 2019 pooja Samgri List: इस साल हरतालिका तीज का त्यौहार 1 सितंबर 2019 को मनाया जाएगा. इस पर्व को देशभर में मनाया जाता है लेकिन उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश में इसका अधिक महत्व है. हरतालिका तीज के व्रत को सुहागन महिलाओं के साथ कुंवारी लड़कियां भी रखती हैं. मान्यता है कि इस व्रत को करने से कुंवारी लड़कियों को मन चाहे वर की प्राप्ति होती है. वहीं सुहागन महिलाओं को माता पार्वती से सदा सुहागन रहने का वरदान मिलता है. इस व्रत को लेकर महिलाओं में काफी उत्साह देखने को मिलता है, इसके साथ ही महिलाएं इसके लिए पहले से ही तैयारियां शुरू कर देती हैं.

हरतालिका व्रत को करवाचौथ व्रत से भी कठिन माना जाता है क्योंकि इस व्रत को महिलाओं को निर्जल रहकर व्रत करना होता है और अगले दिन पूजा के बाद ही व्रत तोड़ा जाता है. इस दिन शाम के समय भगवान शिव-मां पार्वती की पूजा की जाती है और चंद्रमा को अर्घ्‍य दिया जाता है. अगर आप भी ये व्रत रखती हैं तो पूजा सामग्री की तैयारी पहले ही कर लें.

हरतालिक तीज व्रत पूजा सामग्री

पूजा के लिए जरूरी सामग्री- बेल पत्र, केले के पत्ते, धतूरा, अंकव पेड़ के पत्ते, तुलसी. शमी के पत्ते, काले रंग की गीली मिट्टी, जनैव, धागा, पानी और नारियल, मदार के फूल, गेंदे के फूल, गुलाब का फूल, भोलेनाथ के अभिषेक के लिए पंचामृत जरूर बनाएं.

मां पार्वती के श्रंगार के लिए जरूरी सामग्री- चूड़ियां, महौर, खोल, सिंदूर बिछुआ, महेंदी, सुहाग पूड़ा, कुमकुम, कंघी, सुहागिन के श्रृंगार की सभी चीजें. इसके अलावा श्रीफल, कलश, अबीर, चंदन
तेल, घी, कपूर

हरतालिक तीज व्रत पूजा विधी (Hartalika Teej 2019 pooja Samgri List)

हरतालिका तीज व्रत माता गौरी और भगवान शंकर को समर्पित है. इस दिन व्रत रखने वाले लोगों को सुबह स्नान करके व्रत का संकल्प ले लेना चाहिए. इसके बाद पूजन की सभी जरूरी सामग्री एकत्रित कर लें. फिर कलश स्थापन करके उस पर सुवर्णादि निर्मित शिव-गौरी को प्रतिष्ठित करें. फिर मंत्रों से उनको फूल आदि अर्पित करें.

हरतालिका तीज की शुभ महुर्त

प्रात:काल शुभ मुहुर्त- 05.58 बजे से 08.31 तक
प्रदोष काल मुहूर्त- 6.43 बजे से 8.58 बजे तक

Ganesh Chaturthi 2019 Ganapati Sthapna Muhurat: गणेश चतुर्थी पर गणपति को घर लाने की तारीख, मूर्ति स्थापना का शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Hartalika Teej 2019 Vrat: हरतालिका तीज पर जानें महिलाओं के 16 श्रंगार करने के पीछे का महत्व

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App