नई दिल्ली/ कोरोना वायरस महामारी को देखते हुए हर की पौड़ी हरिद्वार में आयोजित होने वाला महाकुंभ मेले के आयोजन को छोटा कर दिया गया है. एक अप्रैल से कुंभ का आयोजन शुरू हो रहा है. केंद्र सरकार और राज्य सरकार द्वारा इसे लेकर दिशानिर्देश भी जारी किए गए हैं. इन दिशानिर्देशों का प्रशासन को सख्ती से पालन कराने के निर्देश दिए गए है.

Bengal Assembly Election 2021 : पश्चिम बंगाल में विधान सभा चुनाव से पहले मिथुन चक्रवर्ती से मिले आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत

साल 2021 में हरिद्वार में आयोजित कुंभ मेले के चार शाही स्नान घोषित किए गए है. वो कुछ इस तरह है पहला स्नान महाशिवरात्रि 11 मार्च 2021 से शुरू होकर चैत्र अमावस्या यानी सोमवती अमावस्या 12 अप्रैल 2021, बैशाखी कुम्भ स्नान 14 अप्रैल 2021 और चैत्र पूर्णिमा 27 अप्रैल 2021 को खत्म होंगे. हालांकि इसके अलावा पर्व स्नान होंगे.

 

श्रद्धालुओं को कुंभ में शामिल होने के लिए अपनी कोरोना वायरस की निगेटिव रिपोर्ट पेश करनी होगी और वो रिपोर्ट पहुंचने के 72 घंटे से पहले जारी की गई हो. अभी इस बारे में जल्द ही अधिसूचना जारी कर दी जाएगी. वैसे देखा जाए तो अधिसूचना से आध्यात्मिक आयोजनों में कोई प्रभाव नहीं होता है. पहली बार कुंभ मेला इतने कम समय सिर्फ 28 दिनों के लिए आयोजित हो रहा है. इससे पहले कुंभ मेला चार महीनों से अधिक समय के लिए आयोजित किया जाता था.

Dev Diwali 2020 : काशी में आज भी देवी- देवता मनाते हैं दिवाली, जनिए देव दीपावली का शुभ मुहूर्त और महत्व

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर