नई दिल्ली : साल 2021 में कुंभ का आगाज हरिद्वार में होने जा रहा है. कोरोना के चलते इस बार कई सावधानियों को ध्यान में रख कर तैयारी की गई हैं. इस बीच सरकार ने कुंभ मेला 2021 को लेकर स्पष्ट किया है कि माघ पूर्णिमा पर 27 फरवरी से कुंभ मेले की शुरुआत होने जा रही है. कुंभ मेला 2021 को लेकर एक हफ्ते पहले 20 फरवरी के आसपास इस संबंध में अधिसूचना जारी की जाएगी. जिसके तहत कुंभ मेला की अवधि अब दो माह हो गई है.

हरिद्वार में होने वाले भव्य आयोजन की तैयारियां अपने चरम पर हैं. कुंभ मेला में जुटे सुरक्षाकर्मियों ने अपनी सभी तैयारियां पुख्ता कर ली हैं. लेकिन लाखों की तादाद में उमडऩे वाली श्रद्धालुओं की भीड़ भी चिंता का विषय बना हुआ है. हालांकि, कुंभ मेला में एंट्री को लेकर राज्य सरकार ने पहले ही कड़े निर्देश दे दिए हैं. बता दें कि हर बार कुंभ की अधिसूचना दिसंबर में जारी कर दी जाती थी और जनवरी से इसकी शुरुआत मानी जाती थी. लेकिन इस अधिसूचना जनवरी में जारी की जाएगी. वहीं सचिव शहरी विकास शैलेश बगौली ने बताया है कि कुंभ मेला 27 फरवरी से शुरू होकर 27 अप्रैल तक चलेगा.

सरकार के प्रवक्ता एवं शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक का कहना है कि संतों के मार्गदर्शन में कुंभ के दिव्य-भव्य आयोजन को सरकार प्रतिबद्ध है. फरवरी के तीसरे हफ्ते की शुरुआत में कुंभ मेले की अधिसूचना जारी की जाएगी. कुंभ में चार शाही स्नान होंगे, जिसकी तैयारियां अंतिम चरण में हैं. स्थायी प्रकृति के अधिकांश कार्य हो चुके हैं. जो शेष हैं वे इस माह के आखिर तक हर हाल में पूर्ण करा लिए जाएंगे.

जानिए कितने हैं शाही स्नान

पहला शाही स्नान महा शिवरात्रि के अवसर पर 11 मार्च को होगा. वहीं दूसरे, तीसरे और चौथे शाही स्नान का आयोजन 12 अप्रैल (सोमवती अमावस्या), 14 अप्रैल (वैशाखी और मेष संक्रांति) और 27 अप्रैल (चैत्र पूर्णिमा) किया जाएगा.

Magh Maas 2021 : माघ महीने में भूलकर भी न खाएं मूली, जानिए कौन से महीने में क्या खाएं

Sakat Chauth 2021: जानिए सकट चौथ 2021 का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि, महत्व