नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के खास शो गुरु मंत्र में आज गुरुदेव जीडी वशिष्ट ने अन्धविश्वास के अभिशाप से समाज को कैसे बचाया जा सकता है इसके बारे में बताया. इसके अलावा आस्था , अंधविश्वास में कब और कैसे बदल जाती है, अंधविश्वास के नाम पर हो रहे कारोबार को कैसे पहचान सकते हैं इस बारे में भी गुरुदेव ने शो में बताया. आस्था और अंधविश्वास में अंतर करना काफी सरल है. आस्था एक साकारात्मक शब्द है.

किसी भी चीज को पॉजिटिव तरीके से सोचना, जहां आपको अपनों के साथ रहने का सलीका सिखाया जाता हो, आपके लिए अच्छा क्या है, क्या बुरा है, अपनापन जहां से आपको मिल रहा है वहां आपकी आस्था जुड़ी होती है. यही आस्था आपको एक संपूर्ण इंसान बनाती है जो जीवन में आपको सही मार्गदर्शन कराता है. लेकिन आस्था के साथ अंधविश्वास नहीं होना चाहिए.

किसी ऐसे रिश्ते पर भरोसा कर लेना जो अपने स्वार्थ के लिए आपका इस्तेमाल करे या फिर अपना समय पार करने के लिए आपके साथ बेकार की बाते कर दूसरों के खिलाफ आपकी आंखों पर बुराई का पर्दा चढ़ाता है इसे अंधविश्वास कहते है. अंधविश्वास के नाम पर हो रहे कारोबार को पहचान पाना भी मुश्किल है. इसके लिए आपके लिए जरुरी है किसी भी ऐसे काम करने से बचे या फिर किसी ऐसे लोगों के संपर्क में आने से बचे जो आपको गलत राह पर ले जाए. उनपर आंख बंद कर भरोसा करना भी आपको अंधविश्वास की ओर ढकेल देता है. इससे बचन के लिए या तो आप उन लोगों से दूरी बनाए रखे या फिर भगवान पर अपनी पूरी आस्था बनाए रखें.

गुरु मंत्र: हाई ब्लड प्रेशर का जन्म कुंडली से क्या है संबंध, कुंडली को देखकर जानें बीपी के लक्षण

फैमिली गुरु: ये 5 महाउपाय चमकाएगा आपका भाग्य, होंगे मालामाल

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App