नई दिल्ली : वैसे तो साल में दो बार नवरात्रि का त्योहार मनाया जाता है. लेकिन, साल में कुल चार बार नवरात्रि आते हैं, जिनमें से दो गुप्त नवरात्रि होते हैं. आमतौर पर लोग शारदीय और चैत्र नवरात्रि के बारे में ही जानते हैं. जिसमें सभी जातक मां दूर्गा के नौ अवतारों की पूजा करते हैं लेकिन इसके अलावा दो और नवरात्रि भी आते हैं. जिनमें विशेष कामनाओं की सिद्धि की जाती है. इस साल माघ गुप्त नवरात्रि 12 फरवरी से शुरू हो रहे हैं. इन गुप्त नवरात्रि में सात्विक और तांत्रिक पूजा की जाती है. गुप्त नवरात्रि के दौरान सभी जातक पूजा और मनोकामना को गुप्त रखकर पूजा करते हैं. मान्यता है कि गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा का आशीर्वाद प्राप्त होता है और फल दोगुना मिलता है. तो आइए आपको बताते हैं कौन सा उपाय कौन से कष्ट को दूर करता है.

कहा जाता है कि अगर तुम्हें संतान प्राप्ति नहीं होती है तो गुप्त नवरात्रि के दौरान संतान प्राप्ति के लिए 9 दिन मां दुर्गा को पान का पत्ता अर्पित करना चाहिए. पान का पत्ता कटा-फटा नहीं होना चाहिए. पूजा के दौरान नन्दगोपगृह जाता यशोदागर्भ सम्भवा ततस्तौ नाशयिष्यामि विन्ध्याचलनिवासिनी मंत्र का जाप करना चाहिए. मान्यता है कि ऐसा करने से मनोकामना पूरी होती है.

यदि आपको नौकरी की समस्या आ रही है तो गुप्त नवरात्रि के दौरान 9 दिन तक मां दुर्गा को बताशे पर रखकर लौंग अर्पित करनी चाहिए. इस दौरान सर्वबाधा विनिर्मुक्तो धन धान्य सुतान्वित: मनुष्यो मत्प्रसादेने भविष्यति ना संशय: मंत्र का जाप करना चाहिए.

मान्यता है कि खराब सेहत से छुटकारा पाने के लिए 9 दिन तक देवी मां को लाल पुष्प अर्पित करना चाहिए. इस दौरान ऊं क्रीं कालिकायै नम: मंत्र का जाप करना चाहिए. कहा जाता है कि ऐसा जीवन में आने वाली स्वास्थय समस्याओं का समाधान होता है.

गुप्त नवरात्रि के दौरान कर्ज से मुक्ति पाने के लिए भी उपाय किए जाते हैं. इसके लिए 9 दिन तक देवी मां के सामने गुग्गल की सुगंध वाला धूप जलाएं. ऐसा करने से समस्याओं से मुक्ति मिलती है. इस दौरान ऊं दुं दुर्गाय नम: का जाप करना चाहिए.

Magha Amavasya 2021: जानिए माघ अमावस्या का शुभ मुहूर्त,व्रत नियम और महत्व

Saraswati Puja 2021: जानिए कब है सरस्वती पूजा 2021? सरस्वती पूजा का शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और महत्व