नई दिल्ली: हिंदू धर्म में गोपाष्टमी के पर्व की विशेष महत्ता हैं। साल 2020 में गोपाष्टमी आज यानि की 22 नवंबर को मनाई जाएगी। पंचाग अनुसार देखा जाए तो गोपाष्टमी हर साल कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मनाई जाती हैं। इस दिन गौ माता की पूजा कर खुशहाली की कामना की जाती हैं। वहीं यदि आप मनचाहा फल प्राप्त करना चाहतें हैं तो गौ माता या बछड़ें की पूजा निष्ठा से करें। साथ ही आज हम आपको यहां गोपाष्टमी की पूजा विधि व मुहूर्त की जानकारी देगें।

 

कब हैं गोपाष्टमी

गोपाष्टमी 22 नवंबर 2020 कार्तिक मास की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मनाई जाएगी।

तिथि अनुसार देखे तो गोपाष्टमी 21 नवंबर 2020 को रात 948 से शुरु हो जाएगी।

वहीं आप पूजा सुबह के समय  करने से विशेष लाभ प्राप्त होगा।

गोपाष्टमी 22 नवंबर 2020 को रात 1051 तक रहेगी।

 

गोपाष्टमी पूजा विधि

प्रातः काल सबसे पहले गौ माता को साफ पानी से स्नान कराएं।

अब गौ माता के रोली, चंदन का तिलक लगाएं।

अब गौ माता के फूल चढ़ाने के साथ भोग लगाएं।

अब गौ माता की आरती कर परिक्रमा लगाएं।

गौ माता का आशीर्वाद लें उनसें अपनी इच्छा की कामना करें।

पूरानी मान्यता अनुसार चली आ रही विधि का वर्णन हमनें आपके साथ किया हैं।

Kartik Purnima 2020: कब हैं कार्तिक पूर्णिमा, कार्तिक पूर्णिमा के दिन दान की क्या है महत्ता?

CBSE board exam 2021 schedule update: सीबीएसई 10वीं व 12वीं का शेड्यूल जल्द करेगा जारी, यहां जानिए आपके काम की बात

 

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर