नई दिल्ली. हर साल गणेश चतुर्थी का त्योहार धूमधाम से मनाया जाता है. इस बार गणेश उत्सव 13 सितंबर से शुरू हो रहा है. गणेश विजर्सन 23 सितंबर को है. भाद्रपद के शुक्लपक्ष की चतुर्थी को गणेश चतुर्थी भी कहा जाता है इस दिन भक्त अपने घर गणपति बप्पा का धूमधाम से स्वागत करते हैं और बप्पा को अपने घर में विराजमान करवाते हैं. 13 सितंबर को गणपति भक्त बप्पा की प्रतिमा को मंदिर में स्थापित करेंगे और पूजा अर्चना करेंगे.

कहा जाता है कि गणपति बप्पा की इन 10 दिनों में मांगी गई हर मुराद अवश्य पूरी होती है. गणेश उत्सव में श्रद्धालु व्रत करते हैं, पूजा करते हैं, नाच गान का आयोजन करते है और तरह तरह के कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इन दिनों हर गणेश मंदिर में खूब भीड़ लगी होती है. लेकिन गणेश उत्सव में की गई पूजा के कई नियम कायदे होते हैं जिसका विशेष ध्यान देना होता है.

गणपति बप्पा को घर लाने जा रहे हैं तो इन बातों का जरूर ख्याल रखें.
1) सबसे पहले गणपति की प्रतिमा खरीदते समय तय कर लें कि आप प्रतिमा किस उद्देश्य से खरीदने जा रहे हो. अगर आप घर के मंदिर के लिए गणेश मूर्ति खरीद रहे हैं तो बैठे हुए बप्पा की मूर्ति लें वहीं आप अगर ऑफिस या कारोबार के सिलसिले में मूर्ति ले रहे हैं तो खड़े हुए बप्पा की मूर्ति लें. इससे सफलता व तरक्की मिलती हैं. जबकि बैठे हुए गणपति खरीदने से धन प्राप्ति और बरकत बनी रहती हैं.
2) गणपति बप्पा की ऐसी प्रतिमा लें जिसमें उनकी सूंड बाईं और मुड़ी हुए हो.
3) पर्यावरण का ध्यान रखते हुए गणपति बप्पा की हर्बल या धातु की मूर्ति खरीदें.
4) बप्पा की ऐसी मूर्ति खरीदें जिसमें बप्पा मोदक खाते हुए नजर आ रहे हो क्योंकि गणपति जी को मोदक खूब प्रिय हैं.
5) गणपति बप्पा की मूर्ति के रंग की बात करें तो सफेद और सिंदूरी रंग की मूर्ति सबसे शुभ होती है.

Ganesh Chaturthi 2018: अनंत चतुर्दशी पर गणेश विसर्जन तिथि, समय और शुभ मुहूर्त

अद्भुत गणेश उत्सव के सेट से सामने आई दिव्यांका त्रिपाठी की फोटो, फैन्स बोले- Beautiful