नई दिल्ली.  कृष्ण जन्माष्टमी की धूम पूरे देश में देखनेे को मिल रही है. जगह-जगह मंदिर सज गए हैं. भगवान कृष्ण की जन्मभूमि मथुरा में मंदिरों को बेहतरीन तरीके से सजाया गया है. जन्माष्टमी पर भगवान कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए तमाम तरह के आयोजन किये जाते हैं. देशभर के मंदिरों में भक्तों की भारी भीड़ होती है. कृष्णलीलाएं होती हैं. जगह जगह पर भक्तों द्वारा भंडारे लगाए जाते हैं. इसके साथ ही मंत्रों का जाप भी किया जाता है. हम आपको बता रहे हैं चार मंत्रों के बारे में जिनसे आप अपने प्रिय नटखट नंदलाला को प्रसन्न कर सकते हैं. इन मंत्रों के जाप से आपका मन भी आनंदित रहेगा और भगवान कृष्ण की कृपा भी बरसेगी. 

पहला मंत्र
ॐ श्रीं नमः श्रीकृष्णाय परिपूर्णतमाय स्वाहा’
यह श्रीकृष्ण का सप्तदशाक्षर महामंत्र है। इस मंत्र का 5 लाख जाप करने से मंत्र सिद्ध हो जाता है। जिस व्यक्ति को यह मंत्र सिद्ध हो जाता है उसे सबकुछ प्राप्त हो जाता है।

दूसरा मंत्र है
‘गोवल्लभाय स्वाहा’
इस सात अक्षरों वाले श्रीकृष्ण मंत्र का जाप जो भी साधक करता है उसे संपूर्ण सिद्धियों की प्राप्ति होती है

तीसरा मंत्र है
आठ अक्षरों वाला श्रीकृष्ण मंत्र :
‘गोकुल नाथाय नमः’
इस आठ (8) अक्षरों वाले श्रीकृष्ण मंत्र का जो भी साधक जाप करता है उसकी सभी इच्छाएं व अभिलाषाएं पूर्ण होती हैं। कृष्ण जी की कृपा जरुर मिलती है..

चौथा मंत्र है…
‘क्लीं ग्लौं क्लीं श्यामलांगाय नमः’
10 अक्षर वाला मंत्र श्रीकृष्ण का है। इसका जो भी साधक जाप करता है उसे संपूर्ण सिद्धियों की प्राप्ति होती है

Krishna Janmashtami 2018: कृष्ण जन्माष्टमी पूजा विधि, मंत्र, व्रत महत्व और सटीक शुभ महूर्त

फैमिली गुरु: जन्माष्टमी पर श्रीकृष्ण को इन मंत्रों के जाप से करें खुश, होगा धनलाभ

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App