नई दिल्ली. इस साल का पहला चंद्रग्रहण 21 जनवरी यानी आज बस थोड़ी ह ही देर में लगने वाला है. सुपर ब्लड वुल्फ मून के नाम से पहचाने जाने वाला यह पूर्ण चंद्रग्रहण सुबह 10 बजकर 41 मिनट पर शुरू होगा. कुल 3 घंटे और 30 मिनट तक लगने वाला यह पूर्ण चंद्रग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा. साल का पहला और आखिरी चंद्रग्रहण अपने आकार से दुगना बड़ा और गहरा लाल तांबे के रंग जैसा नजर आने वाला है. भारत को छोड़ अमेरिका, दक्षिण और मध्य अमेरिका के लोग पूर्ण चंद्रग्रहण के अद्धभुत नजारे को देख पाएंगे.

इस साल के पहले पूर्ण चंद्रग्रहण का महत्तव इसलिए भी खास है क्योंकि इसके बाद अब साल 2021 29 मई को लोगों को चंद्रग्रहण के नजारे देखने को मिलेगें. चंद्रग्रहण के लगने के साथ ही इसके बुरे प्रभावों का असर भी शुरू हो जाएगा. ऐसी मान्यता है कि पूर्ण चंद्रग्रहण के दौरान किसी भी काम को करने से बचना चाहिए. भगवान की पूजा अर्चना से पहले उन्हें गंगाजल से स्नान करा कर घर और मंदिर को भी शुद्ध करना होगा. इसके अलावा चंद्रग्रहण का बुरा प्रभाव गर्भवती महिलाओं पर भी होगा.

पूर्ण चंद्रग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाएं अपने घरों से बाहर न निकले, अन्यथा उनके बच्चें पर चंद्रग्रहण का बुरा प्रभाव पड़ सकता है जिससे बच्चा विकलांग पैदा हो सकता है. हालांकि, यह चंद्रग्रहण किसानों के लिए काफी फायदेमंद साबित होने वाला है. चंद्रग्रहण के बाद बेमौसम की भारी बारिश होने की संभावना है, जिससे फसलों की खेती अच्छी होने के आसार है और किसानों को भारी मात्रा में झीलों और नदियों से पानी मिल सकता है.

Lunar Eclipse 2019: 21 जनवरी को पड़ेगा पहला चंद्र ग्रहण, इन राशियों के आएंगे बुरे दिन

Lunar Eclipse 2019: 21 जनवरी को लगेगा साल 2019 का पहला पूर्ण चंद्रग्रहण, इन लोगों पर पड़ सकता है बुरा प्रभाव

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App