Chaitra Navratri 2022:

नई दिल्ली, नवरात्रि के नौ दिनों में मां दुर्गा के 9 अलग-अलग स्वरूपों की पूजा-अर्चना की जाती है, भक्त इन 9 दिनों में माँ दुर्गा की पूरी श्रद्धा भाव से पूजा करते हैं. मां दुर्गा को सुख,समृद्धि और धन की देवी माना जाता है, इसलिए नवरात्रि (Chaitra Navratri 2022) के दौरान मां दुर्गा की विधि-विधान से पूजा-अर्चना की जाती है.

कब से शुरू है चैत्र नवरात्री?

चैत्र नवरात्रि (Chaitra Navratri 2022) हिंदू धर्म के पवित्र त्योहारों में से एक माना जाता है, इस दौरान मां दुर्गा के 9 विभिन्न स्वरूपों की पूजा की जाती है. माना जाता है कि नवरात्रि में माता की पूजा-अर्चना करने से देवी दुर्गा की अपने भक्तों पर विशेष कृपा होती है. बता दें सालभर में कुल 4 नवरात्रि आती हैं जिसमें चैत्र और शारदीय नवरात्रि का महत्व काफी ज्यादा होता है. इस साल चैत्र नवरात्रि का त्योहार 2 अप्रैल 2022 से शुरू हो रहा है जो 11 अप्रैल 2022 तक मनाया जाएगा.

कब करें कलश स्थापना

बता दें कि कलश को भगवान विष्णु का रूप माना जाता है, इसलिए चैत्र नवरात्री के दौरान दुर्गा पूजा से पहले कलश स्थापना की जाती है. पूजा स्थल पर कलश की स्थापना करने से पहले कलश स्थापना करने वाले स्थल को अच्छे से गंगाजल से साफ किया जाता है. फिर सभी देवी-देवताओं को आमंत्रित किया जाता है, जिसके बाद, गणेश जी और मां दुर्गा की आरती करते है और 9 दिनों के व्रतों की शुरुआत करते हैं. बता दें चैत्र नवरात्री के दौरान कलश स्थापना का शुभ मुहूर्त शनिवार, अप्रैल 2, 2022 को सुबह 6 बजकर 22 मिनट से शुरू होगा जो 8 बजकर 31 मिनट तक रहेगा. बता दें कलश स्थापना की कुल अवधि 02 घण्टे 09 मिनट्स की रहेगी.

 

यह भी पढ़ें:

Yogi Adityanath Oath Ceremony: योगी आदित्यनाथ के शपथ ग्रहण कार्यक्रम में बदलाव, ये है नई तारीख!

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर