नई दिल्ली. Chaitra Navratri 2019 1st Day: नवरात्रि 2019 (Navratri 2019) का पहला दिन देवी मां शैलपुत्री (Maa Shilaputri) की पूजा करने के लिए समर्पित है, जिन्हें शैलपुत्री (Shailputri) भी कहा जाता है. जिन्हें शास्त्रों में पर्वतों की बेटी के रूप में वर्णित किया गया है. शब्द ‘शिला’ का अर्थ है चट्टान या पहाड़ (Rock or Mountain) और दूसरी आधी ‘पुत्री’ का अर्थ है ‘बेटी’ (daughter). शैलपुत्री को करोड़ों सूर्यों और चन्द्रमाओं की तरह कहा जाता है. वह एक बैल (नंदी) पर सवार होती है और अपने हाथों में त्रिशूल और कमल धारण करती है. वह अपने माथे पर एक चांद पहनती है.

सुख और समृद्धि की होती है प्राप्ति

हिंदु मान्यता में इसका विशेष महत्व है. नवरात्रि में शैलपुत्री पूजन का बेहद अधिक महत्‍व है. हिंदु मान्यता के मुताबिक मां शैलपुत्री की पूजा करने से मूलाधार चक्र जाग्रत हो जाता है. जो भी भक्‍त सच्ची श्रद्धा भाव से मां शैलपुत्री (Maa Shilaputri) का पूजन करता है. उसे सुख और सिद्धि की प्राप्‍ति होती है.

जानिए कौन हैं मां शैलपुत्री

पौराणिक कथाओं के मुताबिक एक बार प्रजापति दक्ष ने एक बहुत बड़ा यज्ञ का आयोजन किया. उन्होंने इस दौरान सभी देवताओं को अपना-अपना यज्ञ-भाग प्राप्त करने के लिए निमंत्रित किया. लेकिन उन्होंने भगवान शंकरजी को इस यज्ञ में निमंत्रित नहीं भेजा. जब सती ने सुना कि उनके पिता एक विशाल यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे हैं, इसके बाद उनका मन व्याकुल हो उठा. उन्होंने अपनी यह इच्छा शंकरजी को बताई. सब बातों पर विचार करने के बाद उन्होंने कहा कि ऐसा लगता है कि प्रजापति दक्ष किसी वजह से हमसे नाराज हैं. उन्होंने अपने यज्ञ में सारे देवताओं को निमंत्रित भेजा. उनके यज्ञ-भाग भी उन्हें समर्पित किए हैं. लेकिन उन्होंने हमें नहीं बुलाया. इस बारे में कोई सूचना तक नहीं भेजी. ऐसी स्थिति में तुम्हारा वहां जाना ठीक नहीं होगा.

भगवान शंकरजी के समझाने का खास असर सती पर नहीं हुआ. अपने पिता का यज्ञ देखने औऱ अपनी माता और बहनों से मिलने की उनकी उनकी इच्छा कम नहीं हुई. जब भगवान शंकरजी ने देखा कि उनके समझान के बाद भी सती पर इस बात का कोई असर नहीं हो रहा है तो उन्होंने उन्हें वहां जाने की इजाजात दे दी. जब सती अपने पिता के घर पहुंचीं और उन्होंने वहां देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम के साथ बात नहीं कर रहा है. सभी लोग मुंह फेरे हुए हैं. केवल उनकी माता ने ही उन्हें प्यार से गले लगाया. उन्होंने देखा कि बहनों की बातों में व्यंग्य और उपहास अधिक था.

अपने घरवालों के इस बर्ताव को देखकर उन्हें बहुत ठेस पहुंची. इतना ही नहीं उन्होंने यह भी देखा कि वहां चतुर्दिक भगवान शंकरजी के प्रति तिरस्कार का भाव भरा हुआ है. साथ ही दक्ष ने उनके प्रति कुछ अपमानजनक वचन भी कहे. यह सब देखकर सती बेहद गुस्से में आ गईं. उन्होंने सोचा भगवान शंकरजी की बात न मान, यहां आकर गलती कर दी है. यह सब वह बर्दाश नहीं कर सकीं और वे अपने पति भगवान शंकर के इस अपमान को सह न पाईं. उन्होंने अपने उस रूप को तत्क्षण वहीं योगाग्नि द्वारा जलाकर भस्म कर दिया. जब भगवान शंकर को यह पता चला उन्होंने अपने गणों को भेजकर दक्ष के उस यज्ञ का पूर्णतः विध्वंस करा दिया. फिर सती ने अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया और वह शैलपुत्री कहलाईं.

इसलिए होती है मां शैलपुत्री का पूजन

पौराणिक कथाओं के मुताबिक देवी मां शैलपुत्री चंद्रमा पर शासन करती हैं और अपने भक्तों को हर तरह का सौभाग्य प्रदान करती हैं. आदिशक्ति का यह रूप कुंडली में चंद्रमा के पुरुष प्रभाव को दूर करता है. शैलपुत्री के अन्य नाम हेमवती और पार्वती हैं. यह मां दुर्गा का सबसे महत्वपूर्ण रूप है और इसलिए नवरात्रि के पहले दिन पूजा की जाती है.

माता की उपासना के लिए मंत्र:

वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।

वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥

ध्यान मंत्र
वन्दे वांछित लाभाय चन्द्राद्र्वकृतशेखराम्।
वृषारूढ़ा शूलधरां यशस्विनीम्॥

Chaitra Navratri 2019 Color: नवरात्रों के नौ दिन पहने ये नौ रंग, मां दुर्गा करेंगी हर मनोकामना पूरी

Chaitra Amavasya 2019: जाने मार्च-अप्रैल के महीने में पड़ने वाले चैत्र अमावस्या का क्या है महत्व

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर