नई दिल्ली. अजा एकादशी का शास्त्रों में काफी खास महत्व बताया गया है. मान्यता है कि एकादशी का व्रत करने वाले सभी लोगों को तीर्थ यात्रा बराबर फल मिलता है. इस साल 26 अगस्त को अजा एकादशी मनाई जाएगी. माना जाता है कि अजा एकादशी 2019 का व्रत करने से व्यक्ति को अर्थ काम से छुटकारा मिलता है और अंत में उसे मोक्ष की प्राप्ति होती है. शास्त्रों में कहा गया है कि अजा एकादशी व्यक्ति की चित, इंद्रियों, आहार और व्यवहार पर संयम रखती है. अजा एकादशी व्यक्ति को जीवन संतुलन बनाने की सीख देता है. इस दिन का व्रत अश्वमेघ यज्ञ, कठिन समस्या और तीर्थों में स्नान-दान सभी का फल प्राप्त कराता है. व्रत करने से मनुष्य का मन निर्मल होता है और उसे सभी सुखों की प्राप्ति होती है.

Aja Ekadashi 2019: अजा एकादशी पूजा विधि
अदा एकादशी की तैयारी दशमी तिथि से एक दिन पहले ही कर लें, जिसके बाद सुबह उठकर घर की साफ-सफाई के बाद नहाकर साफ वस्त्र धारण कर लें. फिर विष्णु भगवान की प्रतिमा की स्थापना के बाद अक्षत, फल, पुष्प की माला और नैवेध भगवान विष्णु को अर्पण करें. साथ ही इस दिन विष्णु भगवान के ‘ऊं नमो वासुदेवाय’ का जाप करें. इस दिन विष्णु जी के नाम का मंत्र जपना अत्यंत शुभ माना गया है. वहीं इस दिन विष्णु सहस्त्रनाम का पाठ भी करें. पूजा विधि संपन्न होने के बाद किसी गरीब आ ब्राह्मण को दान कर दें.

Aja Ekadashi 2019: अजा एकादशी शुभ मुहूर्त

सुबह 7 बजकर 3 मिनट से एकादशी प्रारंभ

सुबह 5 बजकर 10 मिनट पर एकादशी समाप्त

दोपहर 1 बजकर 39 मिनट से शाम 4: 12 तक अजा एकादशी पारण का समय

Shanidev Saturday Tips: शनिवार के दिन इन असरदार टोटके से खुल जाएगी किस्मत, शनिदेव होंगे प्रसन्न, दूर होंगे संकट

Business Success Tips: कारोबार के अचूक टोटकों से खुल जाएगा बंद किस्मत का ताला, बढ़ेगा रोजगार, बिजनेस में होगी तरक्की

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App