नई दिल्ली : दिवाली 2017 पर आज हम आपको इस बात से रू-ब-रू कराएंगे कि आखिर क्यों शुभ मुहूर्त में लक्ष्मी पूजा की जाती है और इसके पीछे की क्या वजह है. दिवाली का त्योहार मन के अंधकार को दूर करने की सीख देता है. दिवाली पूजा की विधि और मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के उपाय काफी आसान है. एक बात जो गौर करने वाली है वह यह है कि मां लक्ष्मी की पूजा शुरू करने से 
पहले चौकी को धोकर रंगोली बनाएं और फिर चौकी के चारों तरफ दीपक जलाएं. मां लक्ष्मी की पूजा में पुष्प, फल, सुपारी, पान, चांदी का सिक्का, नारियल (पानी वाला), मिठाई, मेवा, आदि सभी सामग्री थोड़ी-थोड़ी मात्रा में लेकर दिवाली पूजन के लिए संकल्प लें.
 
क्यों सही मुहूर्त पर करनी चाहिए दिवाली पूजा?
 
लक्ष्मी पूजन के लिए आज शाम 7 बजकर 14 मिनट से रात 9 बजकर 11 मिनट का मुहूर्त शुभ है. पूजन की सही अवधि कुल 2 घंटे 3 मिनट की रहेगी. शुभ मुहूर्त में दिवाली पूजन अगर सही विधि-विधान से की जाए तो मां लक्ष्मी की कृपा से घर में धन और धान्य की कमी नहीं रहती है. दिवाली की शाम पूजा से पहले शरीर पर चंदन का लेप लगाकर स्नान करें और फिर भगवान कृष्ण की पूजा करें. घर के बाहर दीप जलाएं. दिपावली पूजन के लिए चांदी का एक सिक्का खरीदें. दीया जलाने के बाद एक मंत्र का जाप करें.
 
मंत्र है- शुभं करोति कल्याणं आरोग्यं धनसंपदाम्… शत्रुबुद्धिविनाशाय दीपज्योतिर्नमोस्तु ते !!
 
मंत्र का जाप दीया जलाने के बाद करें. कम से कम 11 बार मंत्र जरूर पढ़ें. इस मंत्र के जाप से घर से नकारात्मक उर्जा दूर होती है, इतना ही नहीं घर से रोग और क्लेश भी दूर होता है. आप लोगों की जानकारी के लिए बता दें कि ये मंत्र बच्चों की यादाश्त को बेहतर करता है.
 
 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App