नई दिल्ली: रामायण आपने पढ़ी भी होगी और रामानंद सागर द्वारा बनाई गई रामायण धारावाहिक आपने देखी भी होगी. इस लिहाज से आपको रामायण की कहानी भी मालूम होगी. खैर हम कहानी की बात नहीं करेंगे. हम आपके उन्हीं सवालों का आज जवाब देंगे, जो आपके और हमारे जेहन में अक्सर आता है कि क्या वाकई लंका में 10 सिरों वाला रावण था? क्या रावण की लंका ही आज का श्रीलंका है? क्या रावण की सोने की लंका को पवनपुत्र हनुमान ने जला डाला था ? आपके इन्हीं तमाम सवालों के जवाब ढूंढ़ने की कोशिश ‘इंडिया न्यूज’ की टीम ने की है. इंडिया न्यूज की टीम ने इसके लिए बकायदा श्रीलंका का दौरा भी किया. इस दौरान लंका में रावण के होने के कई सबूत इंडिया न्यूज की टीम के हाथ लगे. 
 
रावण के दादाजी का अनाम प्रजापति पुलत्स्य था जो ब्रह्मा जी के दस पुत्रो में से एक थे. इस तरह देखा जाए तो रावण ब्रह्मा जी का पडपौत्र हुआ जबकि उसने अपने पिताजी और दादाजी से हटकर धर्म का साथ न देकर अधर्म का साथ दिया था.
 
हिन्दू ज्योतिषशास्त्र में रावण संहिता को एक बहुत महत्वपूर्ण पुस्तक माना जाता है लेकिन आपको जानकर हैरानी होगी कि रावण संहिता की रचना खुद रावण ने की थी.
 
रामायण में एक जगह यह भी बताया गया है कि रावण में भगवान राम के लिए यज्ञ किया था. वो यज्ञ करना रावण के लिए बहुत जरुरी था क्योंकि लंका तक पहुचने के लिए जब राम जी की सेना ने पुल बनाना शुरू किया था तब शिवजी का आशीर्वाद पाने से पहले उसको राम जी का आराधना करनी पड़ी थी.
 
रावण तीनो लोगो का स्वामी था और उसने न केवल इंद्र लोग बल्कि भूलोक के भी एक बड़े हिस्से को अपने असुरो की ताकत बढाने के लिए कब्जा किया था.
 
रावण अपने समय का सबसे बड़ा विद्वान माना जाता है और रामायण में बताया गया है कि जब रावण मृत्यु शय्या पर लेटा हुआ था तब राम जी ने लक्ष्मण को उसके पास बैठने को कहा था ताकि वो मरने से पहले उनको राजपाट चलाने और नियन्त्रण करने के गुर सीखा सके.
 
रावण ये जनता था कि उसकी मौत विष्णु के अवतार के हाथो लिखी हुयी है और ये भी जानता था कि विष्णु के हाथो मरने से उसको मोक्ष की प्राप्ति होगी और उसका असुर रूप का विनाश होगा.
 
हमने रावण के 10 सिरों की कहानिया सूनी होगी इसमें दो प्रकार के मत है एक मत के अनुसार रावण के दस सिर नही थे जबकि वो केवल एक 9 मोतियों की माला से बना एक भ्रम था जिसको उसकी माता ने दिया था. दूसरे मत के अनुसार जो प्रचलित है कि जब रावण शिवजी को प्रसन्न करने के लिए घोर तप कर रहा था तब रावण ने खुद अपने सिर को धड़ से अलग कर दिया था जब शिवजी ने उसकी भक्ति देखी तो उससे प्रस्सन होकर हर टुकड़े से एक सिर बना दिया था जो उसके दस सर थे.
 
 
शिवजी ने ही रावण को रावण नाम दिया था . ऐसा कथाओं में बताया जाता है कि रावण शिवजी को कैलाश से लंका ले जाना चाहता था लेकिन शिवजी राजी नही थे तो उसने पर्वत को ही उठाने का प्रयास किया. इसलिए शिवजी ने अपना एक पैर कैलाश पर्वत पर रख दिया जिससे रावण की अंगुली दब गयी हटी. दर्द के मारे रावण जोर से चिल्लाया लेकिन शिवजी की ताकत को देखते हुए उसने शिव तांडव किया था. शिवजी को ये बहुत अजीब लगा कि दर्द में होते हुए भी उसने शिव तांडव किया तो उसका नाम रावण रख दिया जिसका अर्थ था जो तेज आवाज में दहाड़ता हो.
 
 
कुछ लोग ऐसा मानते है कि लाल किताब का असली लेखक रावण ही था. ऐसा कहा जाता है कि रावण अपने अहंकार की वजह से अपनी शक्तियों को खो बैठा था और उसने लाल किताब का प्रभाव खो दिया था जो बाद में अरब में पायी गये थी जिसे बाद में उर्दू और पारसी में अनुवाद किया गया था.
रावण बाली से एक बार पराजित हो चूका था. कहानी इस पप्रकार है कि बाली को सूर्यदेव का आशीर्वाद प्राप्त था और रावण शिवजी से मिले वरदान के अहंकार से बाली को चुनौती दे बैठा. बाली ने शूरुवात ने ध्यान नही दिया लेकिन रावण ने जब उसको ज्यादा परेशान किया तो बाली ने रावण के सिर को अपनी भुजाओं में दबा लिया और उड़ने लगा. उसने रावण को 6 महीने बाद ही छोड़ा ताकि वो सबक सीख सके.
 
राम जी को जब रावण को हरान के लिए समुद्र पार कर लंका जाना था तो जब काम शुरू करने के एक रात पहले उन्होंने यज्ञ की तैयारी की और रामेश्वरम में भगवान शिव की आराधना करने का निश्चय किया. अब जब वो सबसे शक्तिशाली व्यक्ति से युध्ह करने को जा रहे थे तो यज्ञ के लिए भी उनको एक विद्वान पंडित की आवश्कता थी. उन्हें जानकारी मिली कि रावण खुद एक बहुत बड़ा विद्वान है. राम जी ने रावण को यज्ञ के लिए न्योता भेजा और रावण शिवजी के यज्ञ के लिए मना नही कर सकता था. रावण रामेश्वरम पहुचा और उसने यज्ञ पूरा किया. इतना ही नही जब यज्ञ पूरा हुआ तब राम जी ने रावण से उसीको हराने के लिए आशीर्वाद भी मांगा और जवाब में रावण ने उनको “तथास्तु ” कहा था.