नई दिल्ली. नोटा का सोंटा अब हर चुनाव में चलने लगा है. मध्य प्रदेश में करीब दो दर्जन सीटों पर हार-जीत का मार्जिन नोटा से कम था जो हारने वालो को मिल जाते तो वो जीत जाता. ऐसे ही राजस्थान में भी हुआ है और यहां तो नोटा से कम वोट के अंतर से बीजेपी ने 7 तो कांग्रेस ने 13 सीटें गंवाई है. बीजेपी अगर ये 7 सीटें जीत भी जाती तो वसुंधरा राजे सिंधिया की सरकार दोबारा नहीं बन पाती लेकिन कांग्रेस अगर ये 13 सीट जीत जाती तो सीएम अशोक गहलोत बनें या सचिन पायलट, उनके पास कांग्रेस का मजबूत बहुमत होता.

200 सीटों वाले राजस्थान में 199 सीट पर चुनाव हुए थे और कांग्रेस 99 सीट जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनी है और सामान्य बहुमत से 2 सीट पीछे है. सरकार कांग्रेस की बनी तो बची हुई एक सीट पर जब भी चुनाव हो वो सीट कांग्रेस अपने पाले में लाकर अपनी ताकत 100 तक ले जा सकती है. पर सरकार के लिए बहुमत की चिंता कांग्रेस को नहीं है क्योंकि बीएसपी के 6 विधायक उसके साथ हैं. सीपीएम ने 2 सीट जीती है जो कांग्रेस के ही पीछे होंगे. 13 निर्दलीय में कुछ बीजेपी के बागी हैं तो कुछ कांग्रेस के जिनमें ज्यादातर सरकार के साथ रहना पसंद करेंगे.

नोटा से कम वोट के अंतर से बीजेपी जो 7 सीटें हारी है उनमें चितौड़गढ़ जिले की बेगुन सीट, बाड़मेर जिले की छोटन और पचपाड़ा सीट, सीकर जिले की दंतारामगढ़ सीट, झुंझनू जिले की खेतरी सीट, पाली जिले की मारवाड़ जंक्शन सीट और पोखरण सीट शामिल है. कांग्रेस नोट से कम वोट से 13 सीट हारी है जिसमें आसींद, छबड़ा, चुरू, घाटोल, खानपुर, मरकाना, मालवीय नगर, पीलीबंगा, चोमु, बूंदी और सिवाना सीट शामिल हैं.

मध्य प्रदेश चुनाव में बीजेपी से 47827 वोट कम पर सीट 5 ज्यादा जीती कांग्रेस, 7 सीटें 1000 से कम के मार्जिन से

राजस्थान में कांग्रेस और बीजेपी के बीच 25 साल से एक के बाद एक सरकार बनाने की रवायत चल रही है. कोई पार्टी लगातार दोबारा सरकार नहीं बना पाई है. अगली सरकार के सीएम पर घमासान मचा है. सचिन पायलट और अशोक गहलोत के मुख्यमंत्री बनने की जिद पर अड़ने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने दोनों को दिल्ली बुला लिया है. गुरुवार की सुबह राहुल गांधी से पायलट और गहलोत मिलेंगे और फिर पार्टी आलाकमान तय करेंगे कि राजस्थान कौन चलाएगा.

Rajasthan Government CM Swearing-In LIVE update: मुख्यमंत्री बनने पर अड़े अशोक गहलोत और सचिन पायलट, विवाद के बीच राहुल ने दोनों को दिल्ली बुलाया

Leave a Reply

Your email address will not be published.

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App