चंडीगढ़ः आम आदमी पार्टी के संयोजक और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के शिअद महासचिव व पूर्व कैबिनेट मंत्री बिक्रम मजीठिया से माफी मांगने के बाद पंजाब के आप विधायक बगावत पर उतर आए हैं. विधायकों की बैठक का दौर लगातार जारी है. आप और उसकी सहयोगी लोक इंसाफ पार्टी की पहली चरण की मीटिंग में केजरीवाल की माफी की निंदा की गई. जिसमें विपक्ष के नेता सुखपाल खैहरा ने दिल्ली सीएम पर तंज कसते हुए कहा कि माफी मांगना सरेंडर था या सेटिंग.

खैहरा का कहना है कि कि चर्चा दोबारा शुरू होगी और उसमें जो फैसला होगा वह शाम तक सबसे सामने आ जाएगा. सूत्रों की मानें तो पार्टी में इस बात को लेकर चर्चा चल रही है कि क्यों न अपने आप को नेशनल यूनिट से अलग कर दिया जाए. बता दें कि एक सीनियर विधायक ने इसकी पुष्टि भी की है, लेकिन उन्होंने कहा कि अंतिम फैसला क्या होगा यह शाम तक ही पता चल पाएगा.

विधायक दल की बैठक में आप और लोक इंसाफ पार्टी ने आज कैप्टन सरकार के एक साल पूरा होने को लेकर 15 सूत्रीय चार्जशीट जारी की है. पार्टी विधायकों का आरोप है कि सरकार अपने किसी भी वादे को पूरा नहीं कर पाई है. उनका कहना है कि कर्ज माफी, घर-घर में रोजगार और नशे के मुद्दे पर तो कैप्टन सरकार बुरी तरह से फ्लॉप रही है. खैहरा ने कहा कि आज सभी पार्टी विधायकों का इसका विरोध जताना था लेकिन केजरीवाल के माफीनामें के बाद हालात ही बदल गए.

यह भी पढ़ें- मजीठिया से केजरीवाल की माफी से भड़के सांसद भगवंत मान का आम आदमी पार्टी पंजाब अध्यक्ष पद से इस्तीफा

अरविंद केजरीवाल ने बिक्रम सिंह मजीठिया से मांगी लिखित माफी, ड्रग्स व्यापार में शामिल होने का लगाया था आरोप

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App