UP Chunav 2022:

उत्तर प्रदेश, UP Chunav 2022: बीते दिन सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने करहल सीट से विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान किया था. अखिलेश के इस फैसले के बाद पार्टी को बड़ा झटका लगा है, दरअसल, करहल से सपा नेता रघुपाल सिंह भदौरिया ने पार्टी से इस्तीफ़ा दे दिया है और भाजपा का दामन थाम लिया है.

यादवों को ही मिलता है पार्टी में मौका

समाजवादी पार्टी सुप्रीमो अखिलेश यादव के करहल से चुनावी मैदान में उतरने से करहल से सपा नेता रघुपाल सिंह भदौरिया भड़क गए हैं, उन्होंने पार्टी छोड़ अब भाजपा का दामन थाम लिया है. भदौरिया ने पार्टी छोड़ने पर कहा कि “पार्टी में सिर्फ यादवों को ही मौका दिया जाता है, मैंने हमेशा पार्टी के लिए काम किया है, मैं करहल से ग्राम प्रधान भी रहा हूँ. पूर्व सैनिक हूँ, वहां की जनता भी मेरे साथ है लेकिन आलाकमान ने मेरी एक न सुनी. अब मैं भाजपा के लिए काम करूंगा.” गौरतलब है रघुपाल सिंह समाजवादी पार्टी के प्रदेश सचिव रहे हैं.

करहल से चुनावी मैदान में उतरेंगे अखिलेश

समाजवादी पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव मैनपुरी के करहल विधानसभा सीट से चुनावी मैदान में उतरेंगे. इससे पहले कयास लगाए जा रहे थे कि अखिलेश आजमगढ़ से लड़ सकते हैं, लेकिन सभी कयासों पर पूर्णविराम लगाते हुए पार्टी ने अखिलेश की चुनावी सीट का ऐलान कर दिया है.

मुलायम की कर्मस्थली है मैनपुरी

बता दें कि समाजवादी पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव का करहल सीट से करीबी जुड़ाव रहा है. मुलायम सिंह यादव ने करहल के जैन इंटर कॉलेज से ही शिक्षा ग्रहण की थी और यहाँ वे बतौर शिक्षक कार्यरत भी रहे, जिस वजह से उनका इस सीट से सियासी जुड़ाव के अलावा भावनात्मक जुड़ाव भ है. गौरतलब है करहल मुलायम सिंह यादव के गांव सैफई से महज चार किलोमीटर की दूरी पर है. 1992 में समाजवादी पार्टी की स्थापना के बाद मुलायम सिंह यादव 1993 में शिकोहाबाद से पहला विधानसभा चुनाव लड़े थे और जीते थे. शिकोहाबाद सीट तब मैनपुरी में थी. मैनपुरी लोकसभा सीट से वह लगातार जीतते रहे हैं इसलिए इस जिले को सपा और यादव परिवार का गढ़ माना जाता है.

यह भी पढ़ें:

Amar Jawan Jyoti : इंडिया गेट के अमर जवान ज्योति की लौ राष्ट्रीय युद्ध स्मारक में हमेशा के लिए समा जाएगी

SHARE

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,ट्विटर