पटना. केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह के नवादा जेल में बंद दंगे के आरोपियों से मुलाकात पर विवाद छिड़ा हुआ है. तेजस्वी यादव ने दंगे के आरोप में जेल में बंद बजरंग दल के कार्यकर्ताओं से गिरिराज सिंह की मुलाकात पर सवाल उठाए थे. इस बीच बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी माना कि गिरिराज सिंह का जेल जाकर दंगे के आरोपियों से मिलना गलत है. नीतीश कुमार ने कहा कि यह स्वीकार्य नहीं है और राज्य सरकार सामाजिक सद्भाव खराब करने की कोशिश करने वाली किसी भी कोशिश को बर्दाश्त नहीं करेगी.

नवादा से सांसद गिरिराज सिंह ने शनिवार को जेल में बंद बजरंग दल के कार्यकर्ताओं से मुलाकात की थी. इनमें से एक को हाल की हें हुए सांप्रदायिक दंगे भड़काने के मास्टरमाइंड गिरफ्तार किया था. बाकी कार्यकर्ताओं को बंद करने की कोशिश में गिरफ्तार किया गया था. गिरिराज सिंह ने यह मुलाकात उस वक्त की है जब बीजेपी सांसद और केंद्रीय मंत्री जयंत सिन्हा द्वारा लिंचिंग के आरोपियों को सम्मानित करने का मामला गर्माया हुआ है.

बीजेपी के फायरब्रांड नेता गिरिराज सिंह ने जेल में बंद बजरंग दल के एक कार्यकर्ता के घर पर संवाददाताओं से कहा था कि इन गिरफ्तारियों को वे “हिंदुओं को दबाने के प्रयास” के रुप में देखते हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा था कि राज्य में अपनी पार्टी के गठबंधन की सरकार होने के बावजूद वे कुछ नहीं कर पाने में असहाय समझते हैं. जेल में कार्यकर्ताओं से मुलाकात के वक्त गिरिराज सिंह भावुक हो गए थे.

नीतीश कुमार से जब गिरिराज सिंह के बेवसी के आंसुओं के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि राज्य में किसी की गिरफ्तारी होती है वह नियम और कानून के तहत ही होती है. अगर किसी को गलत लगता है तो उसे प्रशासन पर सवाल उठाने के बजाय उसे अदालत जाना चाहिए. उन्होंने कहा कि हम न किसी को बचाते हैं और न ही फंसाते हैं. उन्होंने कहा कि हम जनता में भेदभाव नहीं करते लेकिन कुछ लोग गलत अफवाह फैलाकर समाज को दूषित करने का काम कर रहे हैं.

जेडीयू बोली- भ्रष्ट राजद पर विचार करे कांग्रेस, जवाब मिला- महागठबंधन में नीतीश कुमार की कोई जगह नहीं

तेजस्वी यादव का मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला, हिंसा भड़काने में भाजपा से ज्यादा दोषी हैं CM नीतीश कुमार

देश और दुनिया की ताजातरीन खबरों के लिए हमे फॉलो करें फेसबुक,गूगल प्लस, ट्विटर पर और डाउनलोड करें Inkhabar Android Hindi News App